अमेठी, एएनआइ। कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस पार्टी और पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर वार करते हुए केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने कहा कि उनके नेतृत्व में घोषणापत्र (कांग्रेस के घोषणापत्र) में कृषि सुधार को शामिल किया गया था। उन मुख्यमंत्रियों में जिनके सुझाव (कृषि कानूनों पर) नीति आयोग की बैठक में कांग्रेस नेता और पंजाब के मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ शामिल थे। क्या राहुल गांधी इसे झूठा साबित साबित करेंगे?

कांग्रेस पर साधा निशाना

अमेठी में अपनी भूमि की रजिस्ट्री के बाद स्मृति ईरानी ने कहा, अमेठी आज तेजी से विकसित हो रही है। स्मृति ने कहा कि अमेठी पिछले 10 वर्ष से जनपद है। 50 वर्ष से गांधी नेहरू खानदान यहां सक्रिय है। उन्होंने क्या किया और हम क्या कर रहे हैं, फर्क साफ है। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेज, सैनिक स्कूल, केंद्रीय विद्यालय के साथ ही ओवरब्रिज व रेलवे के तमाम कार्य यहां हो रहे हैं। रायबरेली के बाबत पूछे गए प्रश्न के जवाब में स्मृति ने कहा कि रायबरेली में भाजपा का कार्यकर्ता जनता की समस्याओं के लिए संघर्ष कर रहा है। जबकि वहां की सांसद गायब हैं।

ज्ञात हो कि कांग्रेस पार्टी अब तक अपने घोषणा पत्र में कृषि सुधारों का समर्थन करती रही है। यहां तक कि घोषणा पत्र में निजी मंडियों की भी बात की थी। लेकिन अब किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए कृषि कानूनों को रद करने की मांग करने लगी है। यहां तक कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी देश में कृषि कानूनों के विरोध में रैलियां कर रहे हैं। राहुल गांधी ने कृषि कानून को राजस्‍थान, तमिलनाडु और केरल में रैलियां की, वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में रैलियां कर रही हैं। इससे वोट बैंक पालिटिक्‍स में उनका दोहरा चरित्र सामने आया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप