भोपाल, एएनआइ। मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो गए हैं। इन उपचुनाव के नतीजे 10 नवंबर को आने हैं। उपचुनाव के नतीजों से पहले मध्य प्रदेश की राजनीति में आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के दो बड़े नेताओं ने भाजपा पर हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया है। जिसपर अब सीएम शिवराज चौहान ने जवाब देते हुए कहा कि कमल नाथ और दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर हॉर्स ट्रेडिंग (विधायकों के खरीद फरोख्त) का आरोप लगाया है। लेकिन भाजपा किसी के पास नहीं गई है, कांग्रेस के लोग ही भाजपा में शामिल हुए हैं। जब कमल नाथ ऐसा करते हैं तो वे इसे मैनेजमेंट कहते हैं, लेकिन जब कोई स्वेच्छा से भाजपा में शामिल हो जाता है तो क्या यह है यह हॉर्स ट्रेडिंग है? 

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कमल नाथ आज भाजपा के विधायकों को बुला रहे हैं। अगर कोई हॉर्स ट्रेडिंग की राजनीति करता है तो वह कमल नाथ हैं। उन्होंने मध्य प्रदेश की राजनीति में गंदगी ला दी है। वह जितना चाहे को कोशिश कर सकते हैं लेकिन भाजपा के विधायक कहीं नहीं जाएंगे। हमारे लोग सिद्धांतों और विचारधाराओं के लिए काम करते हैं।

अन्य पार्टियों में भी चल रहा है यह खेल

वहीं, दूसरी ओर विधायकों को साधने की रणनीति के तहत नगरीय प्रशासन और विकास मंत्री व भाजपा चुनाव प्रबंध समिति के संयोजक भूपेंद्र सिंह ने बसपा के विधायक संजीव कुशवाह, निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा और मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी से मुलाकात की थी। त्रिपाठी कांग्रेस के एक बिल का समर्थन कर चुके हैं। बंद कमरे में हुई मुलाकात के बाद सभी ने इसे सामान्य बताया, लेकिन ये स्पष्ट हो गया कि अप्रत्याशित परिणाम आने की स्थिति से पहले जोड़-तोड़ का खेल शुरू हो गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप