भोपाल, जेएनएन। मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल में आज 28 नए मंत्री शामिल हुए। भोपाल के राजभवन में प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल इन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इसमें 20 लोग कैबिनेट और 8 राज्यमंत्री पद की शपथ ली। कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद जब शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, तब कुछ ही मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था। गुरुवार को कुल 28 मंत्रियों ने शपथ ली, जिसमें 20 कैबिनेट मंत्री, 8 राज्य मंत्री शामिल हैं। इनमें गोपाल भार्गव, विजय शाह, यशोधरा राजे सिंधिया समेत कई बड़े नेता शामिल रहे। ऐसे में नई सरकार बनने के बाद ये पहला मंत्रिमंडल विस्तार है, जिसमें कांग्रेस से भाजपा में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों को जगह मिली। शपथ ग्रहण में खुद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद रहे। ये हैं कैबिनेट और राज्यमंत्रियों के नाम...

कैबिनेट मंत्री

- गोपाल भार्गव, विजय शाह, जगदीश देवड़ा, बिसाहू लाल सिंह, यशोधरा राजे सिंधिया, भूपेंद्र सिंह, एदल सिंह कंषाना,  बृजेंद्र प्रताप सिंह, विश्वास सारंग, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया(संजू भैया), प्रद्युमन सिंह तोमर, प्रेम सिंह पटेल, ओमप्रकाश सकलेचा, उषा ठाकुर, अरविंद भदौरिया, डॉ. मोहन यादव, हरदीप सिंह डंग, राजवर्धन सिंह प्रेमसिंह दत्तीगांव।

राज्यमंत्री

इसके अलावा शिवराज सिंह कैबिनेट में भरत सिंह कुशवाह,  इंदर सिंह परमार, रामलेखावन पटेल, राम किशोर कांवरे, बृजेंद्र सिंह यादव, गिर्राज दंडौतिया, सुरेश धाकड़, ओपीएस भदौरिया राज्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

LIVE MP Cabinet Expansion

-मध्य प्रदेश में नए मंत्रियों के शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहली कैबिनेट बैठक की।

- भाजपा विधायक गोपाल भार्गव ने लिया मंत्री पद की शपथ।

-मल्हारगढ़ से विधायक जगदीश देवड़ा ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

-यशोधरा राजे सिंधिया ने लिया मंत्री पद की शपथ

-ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे की इमरती देवी ने शिवराज कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ली।

-विजेंद्र प्रताप सिंह ने भी शिवराज कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

- एंदल सिंह कंसाना ने शिवराज कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ली।

-प्रभु राम चौधरी ने भी मध्य प्रदेश कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ली।

-प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मंत्री पद की शपथ ली। यह ग्वालियर सीट से कांग्रेस के विधायक थे और अब भाजपा में शामिल हो गए हैं।

-भाजपा का आदिवासी चेहरा माने जाने वाले प्रेम सिंह पटेल ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

- मध्य प्रदेश के जावद सीट से विधायक ओ पी सकलेचा ने मंत्री पद की शपथ ली।

-महू विधानसभा सीट से भाजपा विधायक ऊषा ठाकुर ने मंत्री पद की शपथ ली।

-अटेर सीट से भाजपा विधायक अरविंद सिंह भदौरिया ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

उज्जैन से भाजपा विधायक मोहन यादव ने शिवराज कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ली।

-हरदीप सिंह डंग ने भी मंत्री पद की शपथ ली। यह सुवासरा से कांग्रेस के विधायक थे और अब भाजपा में शामिल हो गए हैं। ये सिंधिया समर्थक हैं।

-बदनावर से पूर्व विधायक राज्यवर्द्धन सिंह ने मंत्री पद की शपथ ली। यह भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं और सिंधिया समर्थक हैं।

-भरत सिंह कुशवाहा ने मंत्री पद की शपथ ली।

- इंदर सिंह परमार ने मंत्री पद की शपथ ली।

-रामखेलावन पटेल ने भी मंत्री पद की शपथ ली। कुर्मी समाज के बड़े नेता माने जाते हैं। अमरपाटन से विधायक हैं।

- परसवाड़ा विधानसभा के विधायक राम किशोरे कांवरे ने मंत्री पद की शपथ ली।

-बृजेंद्र सिंह यादव ने मंत्री पद की शपथ ली।

-गिरिराज सिंह डंडोतिया ने मंत्री पद की शपथ ली।

-पोहरी से विधयक सुरेश धाकड़ ने मंत्री पद की शपथ ली।

- ओ पी एस भदौरिया ने मंत्री पद की शपथ ली।

सिंधिया समारोह में शामिल

ज्योतिरादित्य सिंधिया आज सुबह भोपाल पहुंचे। वे शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए। इसके बाद कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए 22 पूर्व विधायकों के साथ सीएम निवास में बैठक करेंगे। इसमें मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष समेत प्रमुख लोग मौजूद रहेंगे। इससे पहले पार्टी दफ्तर जाएंगे व कांग्रेस से भाजपा में शामिल हो रहे लोगों को सदस्यता दिलाएंगे। बताया जा रहा है अगले दिन शुक्रवार को भी सिंधिया कुछ लोगों को भाजपा में शामिल कराएंगे।

डैमेज कंट्रोल में जुटी भाजपा

भाजपा के असंतुष्ट नेताओं को साधने और डैमेज कंट्रोल के लिए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे भोपाल पहुंच गए हैं। भोपाल आकर सहस्रबुद्धे और भाजपा कोर टीम के नेताओं के बीच बुधवार शाम से रात तक करीब छह घंटे बैठक हुई, जिसमें शपथ ग्रहण और उससे उपजने वाले असंतोष को लेकर रणनीति तैयार की गई है। 

शिवराज के विष वाले बयान के निकाले जा रहे सियासी मायने

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लंबे समय से कोशिश कर रहे थे कि मंत्रिमंडल का विस्तार शुभ मुहूर्त में हो जाए, लेकिन मंत्री पद के दावेदारों के नाम पर सहमति नहीं बनने से मंत्रिमंडल विस्तार का मामला लगातार टल रहा था। दिल्ली से लौटने के बाद मंगलवार को शिवराज ने संकेत दिए थे कि एक-दो दिन में शपथ ग्रहण का कार्यक्रम हो जाएगा। बुधवार को फिर चौहान ने साफ कर दिया है कि गुरुवार को ही कैबिनेट का विस्तार होगा। एक सवाल के जवाब में सीएम ने कहा कि मंथन के बाद तो अमृृत ही निकलेगा, विष तो शिव ने पिया है। इस बात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। कुछ दिग्गजों का मानना है कि शिवराज का इशारा संगठन की ओर है।

कोई असंतुष्ट नहीं : सहस्रबुद्धे

भोपाल पहुंचने के बाद भाजपा के प्रदेश प्रभारी डॉ. विनय सहस्रबुद्धे ने कहा कि मंत्रिमंडल में सभी को समायोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शपथ लेने वाले मंत्रियों की सूची गुरवार को ही सार्वजनिक की जाएगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के विष पीने के बयान के जवाब में कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। कोई कठिनाई नहीं, कोई असंतुष्ट नहीं है। सब ठीक हो जाएगा।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस