राज्य ब्यूरो, मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद पवार ने अपने कार्यकर्ताओं से जनसंपर्क की कला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से सीखने की सलाह दी है। राकांपा प्रमुख भी सार्वजनिक रूप से आरएसएस की आलोचना करने वाले नेताओं में शामिल रहे हैं।

लोकसभा चुनाव में पार्टी को मिली करारी हार के बाद शरद पवार इन दिनों अपने कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें करने में व्यस्त हैं। इसी कड़ी में गुरुवार से राकांपा कार्यकर्ताओं की विभागवार बैठकें शुरू हुई हैं।

मराठा छत्रप शरद पवार ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए संघ की कार्यशैली की तारीफ की। उन्होंने कहा कि आरएसएस के लोग कैसे प्रचार करते हैं, हमें उसपर ध्यान देना चाहिए। वे अगर पांच घरों में प्रचार के लिए गए और उनमें से एक घर बंद मिला तो शाम को उस घर में फिर जाएंगे। तब भी बंद मिला तो अगली सुबह भी जाएंगे। लेकिन उस घर में जाकर ही आते हैं। उन्हें ऐसा सिखाया जाता है।

पवार ने कहा कि लोकसभा में हुई पराजय से हमें सीखने की जरूरत है। हमें घर-घर जाकर लोगों से जनसंपर्क करना चाहिए। यदि आज से जनसंपर्क अभियान चलाते रहेंगे तो ऐन मौके पर दिक्कत नहीं आएगी।

शरद पवार स्वयं भी इन दिनों पूरे राज्य में सूखा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं। वह नहीं चाहते कि लगातार दूसरे विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को मुंह की खानी पड़े।

लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद मुंबई में हुई एक समीक्षा बैठक में भी वह अपने कार्यकर्ताओं से लोकसभा की हार को भुलाकर विधानसभा की तैयारी में जुटने का आह्वान कर चुके हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस