मुंबई, प्रेट्र। एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार (NCP chief Sharad Pawar) ने रविवार को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने यलगार परिषद मामले (Elgar Parishad case) की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) को इसलिए सौंप दी है, क्योंकि महाराष्ट्र की पिछली देवेंद्र फड़नवीस सरकार (Devendra Fadnavis Govt) कुछ छिपाना चाहती थी।

पवार ने कहा कि केंद्र सरकार को यह मामला एनआइए को सौंपने से पहले महाराष्ट्र सरकार को विश्वास में लेना चाहिए था। एनसीपी अध्यक्ष इससे पहले इस मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआइटी) गठित करने की मांग कर चुके हैं।

सरकार कुछ छिपाना चाहती थी

जलगांव में पत्रकारों से बात करते हुए पवार ने कहा कि जब कोरेगांव-भीमा में हिंसा भड़की थी, उस समय राज्य में फड़नवीस सरकार सत्ता में थी। ऐसा लगता है कि तत्कालीन सरकार कुछ छिपाना चाहती थी। इसीलिए मामले को एनआइए को सौंप दिया गया है।

केंद्र सरकार का विशेषाधिकार

पवार ने कहा कि यलगार परिषद मामले की जांच करना केंद्र सरकार का विशेषाधिकार है। लेकिन, उसे राज्य सरकार को विश्वास में लेना चाहिए था। पवार की पार्टी राकांपा उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी है।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस