श्रीनगर, प्रेट्र। पूर्व आइएएस अधिकारी व जम्‍मू कश्‍मीर पीपुल्‍स मूवमेंट पार्टी के अध्‍यक्ष शाह फैसल को दिल्‍ली एयरपोर्ट पर बुधवार को हिरासत में ले लिया गया। यहां से उन्‍हें जम्‍मू कश्‍मीर वापस भेज दिया गया और श्रीनगर पहुंचने के बाद पब्‍लिक सेफ्टी एक्‍ट (PSA) के तहत दोबारा गिरफ्तार किया गया है। वहां उन्‍हें नजरबंद कर दिया गया है। वे इंस्‍तांबुल जा रहे थे।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाए जाने के बाद अपने विवादित बयान के कारण शाह फैसल सुर्खियों में हैं। उन्‍होंने आज कहा, ‘कश्मीर को लेकर हमारे पास दो रास्ते हैं या तो कश्मीर कठपुतली बने या फिर अलगाववादी। इसके अलावा अन्‍य विकल्प नहीं।

इससे पहले उन्‍होंने कश्मीर में लॉकडाउन संबंधित बयान दिया था और कहा था कि 80 लाख की आबादी आज की तरह कभी कैद नहीं रही।

कुछ दिनों पहले जम्‍मू कश्‍मीर सिविल सर्विसेज में शीर्ष स्‍थान पर रहने वाले शाह फैसल ने आइएएस की नौकरी इसलिए छोड़ी ताकि वे जम्‍मू कश्‍मीर पीपुल्‍स मूवमेंट से जुड़ सकें। शाह फैसल पूर्व विधायक इंजीनियर राशिद के राजनीतिक सहयोगी थे। इंजीनियर राशिद को आतंकी फंडिंग मामले में गिरफ्तार कर लिया गया था।

उन्होंने अपने इस्तीफे को कश्मीर और देश के विभिन्न हिस्सों में जारी तथाकथित मुस्लिम उत्पीड़न से जोड़ते हुए कहा था कश्मीर में विश्वसनीय राजनीतिक पहल का अभाव है, जिसका मैं विरोध कर रहा हूं। मेरे लिए ये महत्वपूर्ण है कि कश्मीरी लोगों के जीवन का सम्मान किया जाए। शाह ने वादी के विभिन्न हिस्सों में युवाओं के साथ संपर्क अभियान भी चलाया। उत्तरी कश्मीर के लोलाब में रैली की थी।

Posted By: Monika Minal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप