मुरादाबाद : केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देश के राजनेताओं, सांसदों के साथ कुछ वीआइपी को प्रदान की गई सुरक्षा वापस लेने का फैसला किया है। गृह मंत्रालय ने यह फैसला केंद्र और राज्य सरकार के खुफिया विभाग से इनपुट के आधार पर लिया है। मंगलवार को गृह मंत्रालय ने 35 वीआइपी लोगों की सुरक्षा की समीक्षा करते हुए उनकी सुरक्षा हटा ली या उसमें कमी कर दी।

अभी तक इनको मिली हुई थी वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा

मंत्रालय को मिली रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि जिन नेताओं की सुरक्षा हटाई गई है, उनको केंद्रीय सुरक्षा की जरूरत नहीं है जितनी उन्हें प्रदान की गई है। मंडल में भी दो नेताओं की सुरक्षा हटा दी गई है। इनमें पूर्व सांसद कुंवर सर्वेश कुमार सिंह व कल्कि पीठ के पीठाधीश्वर कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम का नाम शामिल है। केंद्र सरकार से अभी तक इन लोगों को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी।

सीआइएसएफ के 12 जवान करते थे सुरक्षा प्रदान

इस सुरक्षा के तहत इन दोनों वीआइपी को सीआइएसएफ के 12 जवान सुरक्षा प्रदान करते थे। पूर्व सांसद को साल 2015 में केंद्र सरकार ने वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की थी,जबकि आचार्य प्रमोद कृष्णम को अप्रैल 2013 से वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा गृह मंत्रालय ने प्रदान की थी।

कांग्रेस नेता कल्कि पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम के बिगड़े बोल

कांग्रेस नेता कल्कि पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा केंद्र सरकार ने राजनीतिक प्रतिशोध के चलते मेरी सुरक्षा को हटाने का काम किया है। अगर मुझे किसी भी प्रकार से नुकसान पहुंचता है तो इसके लिए सीधे प्रधानमंत्री के साथ ही गृह मंत्री जिम्मेदार होंगे। पूर्व गृह मंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ चुनाव नहीं लड़ता तो शायद मेरी सुरक्षा न हटती। केंद्र सरकार ने बदले की भावना से यह कार्रवाई की है।

समीक्षा के बाद सुरक्षा वापस हो गई, राज्य सरकार से भी सुरक्षा मिली है : सर्वेश

पूर्व भाजपा सांसद कुंवर सर्वेश कुमार सिंह ने इस बाबत कहा केंद्र सरकार से मिली वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा समीक्षा के बाद वापस हो गई है। देश के ज्यादातर नेताओं की सुरक्षा वापस हुई है। मुझे राज्य सरकार से भी सुरक्षा मिली है।  

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस