भोपाल, राज्य ब्यूरो। राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आरोप लगाया है कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ और दिग्विजय सिंह सबसे बड़े गद्दार हैं। उन्होंने वचन पत्र के वादे नहीं निभा कर मतदाताओं का भरोसा तोड़ा है। सिंधिया ने दावा किया कि उपचुनाव में भाजपा को बड़े अंतर से जीत मिलेगी। सिंधिया सोमवार को मीडिया से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कई मुद्दों पर अपनी बात रखी।

सिंधिया ने कहा- विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस को होगा नुकसान

उनका कहना था कि विधानसभा की जिन 28 सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं, वहां कांग्रेस को ही नुकसान है। भाजपा हर तरह से फायदे में रहेगी। यह स्पष्ट है कि लोगों को कांग्रेस से कोई आशा नहीं है। यह अविश्वास पार्टी में निचले स्तर से लेकर विधायकों तक में है। मुझे नहीं लगता कि किसी और प्रदेश में इतनी बड़ी संख्या में विधायकों ने पार्टी को अलविदा कहा होगा।

नेताओं को उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए: सिंधिया

भाजपा प्रत्याशी इमरती देवी को लेकर कमल नाथ के बयान पर सिंधिया ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में नेताओं को उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए। इमरती देवी संघर्ष से मंत्री पद तक पहुंची हैं। कमल नाथ कहते हैं कि मैंने उनका नाम नहीं लिया। यह उनका घमंड है। इमरती देवी उनकी सरकार में भी मंत्री रहीं और वे उनका नाम भी नहीं जानते। उन्होंने महिला और अनुसूचित जाति वर्ग का अपमान किया है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और दिग्विजय सिंह ने भी महिलाओं का अपमान किया है। आज यदि बाबासाहेब (आंबेडकर) होते तो कांग्रेस के महिला और अनुसूचित जाति विरोधी रवैया देखकर दुखी हो जाते।

सिंधिया ने कहा- 5 महीने की कमल नाथ सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर था

उन्होंने कहा कि हमारा परिवार समाजसेवा के लिए राजनीति में आया है। 15 महीने की कमल नाथ सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर था। इसे बदलने के लिए मैंने प्रयास किए, लेकिन जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया। मेरा विश्वास है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जनहितैषी कार्य और आगे बढ़ेंगे।

सिंधिया और उनके निजी सचिव पर कांग्रेस में रहते विधानसभा चुनाव के टिकट बेचने का आरोप

कांग्रेस ने सोमवार को पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह व भांडेर से भाजपा प्रत्याशी रक्षा सिरोनिया के पति संतराम के बीच बातचीत का एक वीडियो मीडिया के लिए जारी किया है। कांग्रेस मीडिया प्रभारी केके मिश्रा ने आरोप लगाया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया व उनके निजी सचिव पुरुषोत्तम पाराशर ने 2018 के विधानसभा चुनाव के टिकट के लिए एक करोड़ रुपये मांगे थे। वीडियो में संतराम सिरोनिया ने स्वीकार किया है कि टिकट के लिए पुरुषोत्तम पाराशर के साले अनूप दांतरे के पास 25 लाख जमा कराए थे। इससे पहले कांग्रेस ने जून में सिंधिया व अशोक नगर से कांग्रेस प्रत्याशी आशा दोहरे की सास अनीता जैन की बातचीत का ऑडियो जारी किया था। उसमें 50 लाख रुपये लेने का आरोप लगाया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस