राज्य ब्यूरो, जयपुर। राजस्थान में पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए शुक्रवार को करीब 80 प्रतिशत मतदान हुआ। मतदान के तुरंत बाद मतगणना भी शुरू हो गई, नतीजे देर रात तक आते रहे। इस चुनाव में सीकर जिले में नीमकाथाना क्षेत्र की पुरानावास ग्राम पंचायत में 97 वर्षीय विद्या देवी ने सरपंच का चुनाव जीता। अब शनिवार को इन सभी पंचायतों में उपसरपंच का चुनाव होगा।

गहलोत ने की काम के प्रति समर्पित मतदानकर्मियों की तारीफ

राजस्थान में पंचायत चुनाव के पहले चरण में शुक्रवार को 2726 ग्राम पंचायतों के सरपंच और 26800 वार्डो के पंच चुनने के लिए वोट डाले गए। शुक्रवार को सुबह आठ बजे से शुरू हुआ मतदान शाम पांच बजे तक चला। सर्दी और बारिश के बावजूद मतदान कराने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर काम के प्रति समर्पित मतदानकर्मियों की तारीफ की। मतदाताओं ने भी बारिश और सर्दी की परवाह किए बिना उत्साह के साथ मताधिकार का उपयोग किया।

राजस्थान में पहली बार ईवीएम से चुने गए सरपंच

राजस्थान में पहली बार ईवीएम से सरपंच का चुनाव हुआ। प्रथम चरण के चुनाव में 11 हजार से ज्यादा ईवीएम मशीनों का उपयोग हुआ।

दो मतदानकर्मियों की मौत

करौली में ड्यूटी पर जा रहे मतदानकर्मी रामसिंह की अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। इसी तरह, भीलवाड़ा के बिजोलिया के लक्ष्मीखेड़ा मतदान केंद्र पर नियुक्त सहायक मतदान अधिकारी रतनलाल बुनकर की शुक्रवार सुबह तबीयत खराब होने से मौत हो गई।

फर्जी मतदान की शिकायत

धौलपुर जिले के राजाखेड़ा पंचायत समिति की चीलपुरा ग्राम पंचायत में फर्जी मतदान की शिकायत सामने आई। लोगों ने आरोप लगाया कि पोलिंग बूथ पर मौजूद एक कार्मिक ने फर्जी मतदान कराया है। ग्रामीणों ने मौके पर प्रशासनिक अधिकारियों को बुलाकर मतदान निरस्त कराने की मांग की साथ ही धीमी गति से चल रही मतदान प्रक्रिया के चलते मतदान बहिष्कार की भी चेतावनी दे डाली। प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और जिस कार्मिक पर आरोप लगाया गया उसे भी मौके से हटा दिया।

पुलिसकर्मी से मारपीट

वहीं सीकर जिले के अजीतगढ़ पंचायत समिति के पीथलपुर ग्राम पंचायत के मतदान केंद्र पर एक मतदाता ने पुलिसकर्मी से मारपीट कर डाली। वोट डालने आया एक युवक अभद्रता कर रहा था। इस दौरान जब पुलिस ने उसे रोकने का प्रयास किया तो युवक पुलिसकर्मियों से उलझ गया और कांस्टेबल से हाथापाई करते हुए उसकी वर्दी तक फाड़ दी। पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया।

बंदरों और नीलगायों से परेशान ग्रामीणों ने चुनाव का किया बहिष्कार 

कोटा जिले में आरामपुरा ग्राम पंचायत के भोजपुरा गांव में ग्रामीणों ने बंदरों और नीलगाय की समस्या का समाधान नहीं होने के कारण मतदान का बहिष्कार किया। वहीं भरतपुर के कामां पंचायत की भौरी ग्राम पंचायत में मतदान के दौरान दो पक्षों में विवाद हो गया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराया। जिसके बाद मतदान केंद्र पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया।

यह नजारे भी दिखे

भरतपुर जिले के बमनवाड़ी में लोगों को बारिश के कारण भरे पानी के बीच मतदान करना पड़ा। वहीं दीदावली पोलिंग बूथ पर महिलाएं गीत गातें हुए मतदान करने पहुंची। चित्तौड़गढ़ की आसावरा माता पंचायत में गांव के लोग बस में भरकर मतदान करने पहुंचे।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस