नई दिल्ली, प्रेट्र। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने मंगलवार को हैदराबाद 'मुक्ति दिवस' पर सरदार वल्लभभाई पटेल का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हैदराबाद को निजाम की हुकूमत से मुक्ति दिलाकर 'एक और कश्मीर जैसी स्थिति बनने से रोक' दी। पूर्ववर्ती हैदराबाद रियासत 17 सितंबर 1948 को भारतीय संघ में शामिल हुई थी। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने क्षेत्र के निवासियों को विलय दिवस पर बधाई दी है।

हैदराबाद को विलय कराने के लिए चलाना पड़ा था 'ऑपरेशन पोलो' अभियान

हैदराबाद को विलय कराने के लिए भारत सरकार को 'ऑपरेशन पोलो' नाम से एक अभियान चलाना पड़ा था। रियासत में आंतरिक हालात ठीक नहीं थे। गृह राज्यमंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट करके पटेल और हैदराबाद रियासत को 'मुक्ति' दिलाने के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

अमानवीय सुलूक से मुक्ति दिलाई

रेड्डी ने कहा, '17 सितंबर 1948 वह दिन है जब भारतीय संघ के बलों ने हैदराबाद रियासत पर नियंत्रण हासिल किया था और निजाम के अत्याचारी शासन और रजाकारों के अपने लोगों के साथ अमानवीय सुलूक से मुक्ति दिलाई थी।' उन्होंने कहा कि भारत के स्वतंत्र होने के करीब 13 महीने बाद इसी दिन हैदराबाद क्षेत्र के लोगों को 'आजादी मिली थी।

हैदराबाद 'मुक्ति दिवस'

रेड्डी ने आठ सितंबर को मांग की थी कि तेलंगाना सरकार 17 सितंबर को हैदराबाद 'मुक्ति दिवस' आधिकारिक तौर पर मनाए। भाजपा लंबे अरसे से ऐसी मांग करती आई है। भाजपा अक्सर आरोप लगाती है कि चंद्रशेखर राव की सरकार 'वोट-बैंक की राजनीति' की वजह से इस मांग को स्वीकार नहीं करती है। राव की टीआरएस के एआइएमआइएम से दोस्ताना रिश्ते हैं। 

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप