कोलकाता, प्रेट्र। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह के साथ पश्‍चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को हिंदी दिवस के मौके पर शुभकामना संदेश दिया। दूसरी ओर गृहमंत्री अमित शाह की ओर से हिंदी भाषा की वकालत पर दक्षिण भारत के कई नेताओं ने आपत्‍ति जाहिर की है।

किसी कीमत पर राष्‍ट्रभाषा से समझौता नहीं

ममता बनर्जी ने राष्‍ट्रभाषा को अहमियत देते हुए कहा कि लोगों को सभी भाषाओं व संस्‍कृतियों का सम्‍मान करना चाहिए लेकिन राष्‍ट्रभाषा को नहीं भूलना चाहिए। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने देश के लिए एक साधारण भाषा की वकालत की और कहा कि हिंदी पूरे देश को एकसूत्र में बांधती है क्‍योंकि यह सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।

न भूलें मातृभाषा हिंदी

हिंदी दिवस के मौके पर शुभकामनाएं देते हुए उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘हिंदी दिवस पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। हमें सभी भाषाओं और संस्कृतियों का समान रूप से सम्मान करना चाहिए। हम कई भाषाएँ सीख सकते हैं लेकिन हमें अपनी मातृ-भाषा को कभी नहीं भूलना चाहिए।’

देश के दक्षिणी हिस्‍सों में बगावत

द्रमुक अध्‍यक्ष एमके स्‍टालिन ने गृहमंत्री के बयान- हमारे देश के लिए एक भाषा की जरूरत पर कहा, ‘कल के बाद हम एक्‍जीक्‍यूटीव पार्टी बैठक करने जा रहे हैं इस मामले को हम सबसे पहले कहां ले जाएंगे।’

कर्नाटक में विरोध प्रदर्शन

इससे पहले स्‍टालिन ने कहा, ‘हिंदी को लागू करने के खिलाफ मैं लगातार विरोध करता आ रहा हूं। अमित शाह के आज के बयान ने हमें झटका दिया है। यह हमारे देश की एकता को प्रभावित करेगा। हमारी मांग है कि वो अपना बयान वापस लें। वहीं कर्नाटक के रानाधीरा पाडे और अन्‍य कन्‍नड़ विरोधी संगठन बेंगलुरु में हिंदी दिवस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही है।

कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारासामी ने कहा, ‘आज पूरे देश में सरकार हिंदी दिवस मना रही है। हिंदी के साथ कन्‍नड़ को भी संवैधानिक तरीके से आधिकारिक भाषा के तौर पर पहचान दी गई है।’ उन्‍होंने प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए सवाल किया कि हम कन्‍नड़ दिवस मनाने कहां जा रहे हैं? याद रखें कि कन्‍नड़ नागरिक भी देश का हिस्‍सा हैं।

हिंदी दिवस 2019: PM मोदी, अमित शाह ने की 'एक देश-एक भाषा' की वकालत, ताकि विश्‍व पटल पर बने पहचान

देवकीनंदन खत्री की 'चंद्रकांता': बिहार से निकली एक कहानी, जिसने बुलंद कर दी हिंदी की किस्मत

Posted By: Monika Minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस