जयपुर, एजेंसी। पिछले दिनों राजस्थान के जालोर जिले के सायला थाना इलाके में टीचर की पिटाई से एक दलित छात्र की मौत हो गई थी। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, दलित छात्र की पिटाई से हुई मौत के बाद राजस्थान की सियासत गरमा गई है। भाजपा ने राजस्थान सरकार पर कई तरह के आरोप लगाए हैं। इस बीच, राजस्थान कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा, 'परिवार पर लाठीचार्ज करने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।' सचिन पायलट ने आगे कहा, 'शिक्षक को तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया लेकिन हमें ध्यान रखने की जरुरत है कि भविष्य में ऐसी घटना ना हो।'

दलित परिवार को दी गई वित्तीय राहत

दलित समुदाय को यह महसूस करना चाहिए कि यह उनकी सरकार है और उनके साथ दुर्व्यवहार करने वाला कोई नहीं बख्शा जाएगा। बता दें कि राजस्थान सरकार ने दलित छात्र के परिवार वालों को एक बड़ी वित्तीय राहत की घोषणा की है। मंगलवार को गोविंद सिंह डोटासरा ने मृतक दलित छात्र के परिवार को 20 लाख रुपये की वित्तीय सहायता की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार को पार्टी की ओर से यह राशि दी जाएगी।

शहर में निकाला गया कैंडल मार्च

इस मामले की वजह से राजस्थान के लोगों में खासकर दलित समुदाय में आक्रोश है। आज राजस्थान के जालोर के ग्राम सुराना में दलित समाज के मासूम छात्र की पीट-पीटकर हत्या करने के विरोध में लोगों ने शहर में कैंडल मार्च निकाला गया। साथ ही आरोपित को फांसी देने की मांग की गई। बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस घटना की निंदा करने करते हुए जांच के निर्देश दिए हुए हैं। 

Edited By: Piyush Kumar