जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं का विरोध कर रहे छात्रों का कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने समर्थन किया है। राहुल गांधी ने कहा कि कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए आईआईटी जैसे संस्थान परीक्षाएं रद्द कर छात्रों को पिछले प्रदर्शन के आधार पर प्रमोट कर रहे है, वहीं यूजीसी इसे लेकर छात्रों के बीच भ्रम पैदा कर रहा है। जो ठीक नहीं है। उसे भी परीक्षाएं रद्द कर छात्रों को पिछले प्रदर्शन या आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर ही प्रमोट करना चाहिए।

राहुल गांधी ने यूजीसी के फैसले के विरोध में देश भर में चलाए जा रहे छात्रों के अभियान का शुक्रवार को एक वीडियो जारी कर समर्थन किया। उन्होंने कहा कि यूजीसी को छात्रों की आवाज सुननी चाहिए। '

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आज अपने ट्विटर पर स्पीक अप स्टूडेंट्स का कैंपेन लॉन्च किया है। जिसमें उन्होंने हिंदी में ट्वीट करते हुए लिखा कि आइये #SpeakUpForStudents campaign से जुड़ें।

बता दें कि केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 6 जुलाई के अपने आदेश में कहा है कि परीक्षाएं सितंबर के अंत में करायी जाएंगी। गृह मंत्रालय की हरी झंडी मिलने के बाद मंत्रालय ने यह फैसला लिया है।

गौरतलब है कि यूजीसी ने हाल ही में अपनी संशोधित गाइडलाइन जारी कर विश्वविद्यालयों और कालेजों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं को जरूरी बताया। साथ ही कहा कि यह रद्द नहीं होगी। उन्होंने विश्वविद्यालयों और कालेजों से इसे सितंबर अंत तक कराने का मौका दिया है। हालांकि छात्रों का कहना है कि जिस तरीके से वह पहले और दूसरे वर्ष के छात्रों को आंतरिक आकलन के आधार पर प्रमोट कर रहे है, उसे तरीके से उन्हें भी प्रमोट किया जाए।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस