नई दिल्ली, पीटीआइ। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर व्यक्तिगत हमला किया है। इस बार राहुल गांधी ने उन्हें आरएसएस (RSS) का प्रधानमंत्री कहा है। राहुल के इस बयान पर भाजपा के प्रवक्ता डॉ संबित पात्रा ने पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी ने कहा था कि ऐसा कोई डिटेंशन कैंप नहीं है, जिसमें एनआरसी के बाद हिंदुस्तान के मुसलमानों को रखा जाएगा। ये झूठ फैलाया जा रहा है। इसमें प्रधानमंत्री जी ने क्या झूठ बोला है? साथ ही राहुल गांधी को झूठों का सरदार करार दिया। 

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने  कहा कि राफेल पर झूठ फैलाने के बाद सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी जी ने माफी मांगी थी। अब वह प्रधानमंत्री जी की बात को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी जी ने कुछ ट्वीट किया है और जिस प्रकार की भाषा का प्रयोग किया है वो बहुत आपत्तिजनक है। राहुल गांधी ने कहा कि RSS का प्रधानमंत्री भारत माता से झूठ बोलता है। मुझे लगता है राहुल गांधी से भद्रता और अच्छी भाषा की अपेक्षा करना ही गलत है। भारत की जनता इतनी समझदार है कि वह झूठे और काम करने वाले के बीच में अंतर कर सके। जैसा कि हमारे पास राहुल गांधी के रुप में एक झूठा है वैसे ही पीएम मोदी के रुप में हमारे पास एक काम करने वाला शख्स भी है। 

राहुल को किसी भी विषय पर नहीं कोई ज्ञान: पात्रा

पात्रा ने आगे कहा कि राहुल गांधी जी को किसी भी विषय पर कोई ज्ञान नहीं है, लेकिन उन्हें सभी विषय पर बोलना है। इनका मकसद ना तो NPR का है और ना ही CAA का है। इनका मकसद एक है कि ये चाय वाला कैसे प्रधानमंत्री बन गया। 

राहुल ने ट्वीट में लिखी ये बात

जानकारी के लिए बता दें कि राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में उन्होंने पीएम मोदी के लिए कहा है, 'RSS का प्रधानमंत्री भारत माता से झूठ बोलता हैं।'

राहुल गांधी पहले भी कई बार प्रधानमंत्री पर इस तरह के व्यक्तिगत हमले कर चुके हैं। इस बार उन्होंने प्रधानमंत्री के खिलाफ जो टिप्पणी की है, वो पीएम के उस हालिया बयान पर है जिसमें नरेंद्र मोदी ने कहा था कि देश में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं है। पीएम मोदी ने ये बात दिल्ली के रामलीला मैदान में 22 दिसंबर को आयोजित एक रैली में कही थी।

पीएम के इस बयान पर किया हमला

माना जा रहा है कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के इसी बयान को लेकर ये ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने असम के एक डिटेंशन सेंटर की वीडियो भी डाली है। मालूम हो कि असम का ये डिटेंशन सेंटर वहां एनआरसी लागू होने के बाद अस्थाई तौर पर बनाया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इसकी जानकारी दे चुके हैं।अमित शाह ने कहा कि डिटेंशन सेंटर बनाया जाना एक सतत प्रक्रिया है। अगर कोई विदेशी नागरिक पकड़ा जाता है तो उसे इसमें रखा जाता है। शाह से जब पूछा गया कि देश में फिलहाल कितने डिटेंशन सेंटर है तो उन्होंने कहा कि मेरी जानकारी में असम में एक है उसके अलावा मेरी जानकारी में कोई नहीं है। मैं कन्फर्म नहीं हूं।  

पहले भी पीएम मोदी पर हमला कर चुके हैं राहुल 

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने पीएम मोदी को लेकर कहा था कि चौकीदार चोर है। उनके इस बयान को लेकर जमकर घमासान हुआ था। मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया था। राहुल ने अपने इस बयान को लेकर बाद में माफी भी मांगी थी। दरअसल, राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर पीएम मोदी को चौकीदार चोर है कहकर संबोधित किया था। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पहले ही पीएम मोदी को क्लिन चीट दे दी थी। 

क्या है डिटेंशन सेंटर 

जानकारी के लिए बता दें कि डिटेंशन सेंटर में अवैध अप्रवासियों को रखा जाता है। जिन्हें अदालतों द्वारा विदेशी घोषित कर दिया गया हो। या फिर ऐसे विदेशियों को रखा जाता है जिन्होंने किसी जुर्म में अपनी सजा काट ली हो और अपने देश वापस जाने के इंतजार कर रहे हों। विदेशी कानून 1946 के सेक्शन 3 (2) सी में केंद्र सरकार के पास भारत में अवैध रूप से रह रहे विदेशी नागरिकों को उनके देश भेजने का अधिकार है। इसके अलावा राज्य भी डिटेंशन सेंटर स्थापित कर सकते हैं। 

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस