नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फ्रांसीसी मीडिया रिपोर्ट को आधार बनाते हुए राफेल जेट सौदे में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अब तक का सबसे आक्रामक हमला बोला है। पीएम के खिलाफ जांच की मांग उठाते हुए राहुल ने साफ कहा है कि दासौ कंपनी के अंदरूनी दस्तावेजों से साफ है कि पीएम ने राफेल सौदा इसी शर्त पर किया कि आफेसट कांट्रेक्ट अनिल अंबानी की कंपनी को मिलेगा। राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को पहली बार भ्रष्ट करार देते हुए कहा कि राफेल सौदे में स्पष्ट रूप रुप से भ्रष्टाचार हुआ है।

राफेल सौदे पर फ्रांस की खोजी खबरों की वेबसाइट मीडियापार्ट में प्रकाशित रिपोर्ट को आधार बनाते हुए राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेंस कर पीएम मोदी को घेरा। उन्होंने कहा कि पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने और अब खुद राफेल कंपनी के दूसरे सबसे सीनियर एक्जक्यूटिव ने पुष्टि कर दी है कि पीएम मोदी के कहने पर ही अनिल को राफेल का आफसेट कांट्रेक्ट दिया गया।

मीडियापार्ट की रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि कंपनी के आतंरिक दस्तावेजों से साफ है कि दासौ ने कबूल किया है कि सौदा हासिल करने के लिए अंबानी को कांट्रेक्ट देना जरूरी और अनिवार्य दोनों ही था। राहुल ने कहा कि स्पष्ट है कि पीएम मोदी ने 45000 करोड़ के कर्ज में डूबे अनिल अंबानी की जेब में देश और वायुसेना का 30000 करोड रुपये सीधे डाल दिये। अब इसमें हुई गड़बड़ी को छुपाने के लिए रक्षामंत्री फ्रांस गई हैं। राहुल का कहना था कि राफेल का सच छुपाने की कोशिश में सब लोग इधर उधर भाग रहे हैं। दासौ की ओर से इसका खंडन किये जाने की बात पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इतना बड़ा सौदा मिला है तो कंपनी वही बात कहेगी जो भारत सरकार चाहेगी।

मोदी पर प्रहार करते हुए राहुल ने कहा कि प्रधानंमत्री ने कहा था कि वे पीएम नहीं चौकीदार बनना चाहते हैं मगर अब पता लगा है कि वे देश के नहीं अनिल अंबानी के प्रधानमंत्री हैं और उनकी चौकीदारी कर रहे हैं। कांग्रेस ने राफेल की जांच के लिए जेपीसी की मांग की थी मगर सरकार ने इसे खारिज दी। मगर ओलांद और दासौ के आंतरिक दस्तावेज से साफ है कि इस मामले को दबाने की कोशिश हो रही है। मीडिया पर दबाव डाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रां ने भी उन्हें बताया था कि कीमत का मसला गोपनीय शर्त का हिस्सा नहीं है जबकि रक्षामंत्री ने इसके उलट बात कही थी।

राहुल ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष की बात कर सत्ता में आए प्रधानमंत्री खुद भ्रष्ट हैं। पीएम पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने के बाद क्या वे उनका इस्तीफा मांगेगे? राहुल ने इसके जवाब में कहा कि देश के सामने मुख्य मुद्दा भ्रष्टाचार है और पीएम के सामने भ्रष्टाचार हुआ है। पीएम इस पर जवाब नहीं दे पा रहे तो इस्तीफा देना चाहिए। भाजपा ने राहुल पर भी भ्रष्टाचार के भाजपा के आरोप लगाये हैं इस पर वे क्या कहेंगे? कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वे सरकार में हैं जो जांच कराना चाहते हैं पूरा दम लगाकर करा लें। मगर राफेल में साफ तौर पर पीएम ने भ्रष्टाचार किया है और इसकी जांच भी होनी चाहिए। राफेल पर मोदी को क्लिन चिट देने के शरद पवार के बयान पर राहुल ने कहा कि पवार ने साफ किया था कि उन्हें गलत तरीके से उद्धृत किया गया। कांग्रेस अध्यक्ष ने यह भी दावा किया कि जल्द ही राफेल के अलावा सरकार के खिलाफ ऐसे दूसरे मामले भी सामने आएंगे।

राफेल डील को लेकर राहुल गांधी की ओर से सीधे प्रधानमंत्री पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से हमलावर भाजपा ने पूरे गांधी परिवार को भ्रष्ट करार दिया है। भाजपा प्रवक्ता सांबित पात्रा ने कहा कि 'कांग्रेस अध्यक्ष खुद ही बिचौलियों के परिवार से आते है, उनके पिता राजीव गांधी भी एक रक्षा खरीद में बिचौलिया रह चुके हैं। दरअसल 2014 तक हर रक्षा खरीद में गांधी परिवार कमीशन कमाती रही है और राहुल गांधी की मानसिकता भी नहीं बदली है।'

आगामी चुनाव आरोप प्रत्यारोप और तीखे बयानों के मामले में अब तक का सबसे ज्यादा गर्म चुनाव हो सकता है। गुरुवार को इसकी पुष्टि हो गई जब कांग्रेस और भाजपा बिना हिचक आरोप लगाने से नहीं चूकी। राहुल गांधी को बार बार क्लाउन प्रिंस(विदूषक युवराज) से संबोधित करते हुएसांबित ने कहा कि झूठ और फरेब की नींव पर राहुल कांग्रेस और खुद की नाव पार लगाना चाहते हैं।

भाजपा प्रवक्ता ने वायुसेना अध्यक्ष का वो बयान याद दिलाया जिसमें उन्होने राफेल डील को देश के लिए गेम चेंजर डील बताया था। संबित ने कहा कि राहुल गांधी वायुसेना अध्यक्ष की बात के ठीक विपरीत बात कह रहें है। यह देश की जनता तय करेगी कि वो किस पर विश्वास करना चाहती है। एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ पर या राहुल गांधी पर।
Sambit Patra

रक्षा मंत्री के फ्रांस जाने पर राहुल की ओर से उठाए गए सवाल का भी पात्रा ने जवाब दिया। उन्होंने कहा- देश की रक्षा मंत्री फ्रांस का दौरा राहुल को बता कर नही करेंगी। उन्होंने सवाल किया कि क्या राहुल इटली भाजपा को बता कर जाते है? पात्रा ने राहुल के उस बयान को भी चुनौती दी जिसमें राहुल ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के हवाले से प्रधानमंत्री मोदी को भ्रष्ट बताया है। पात्रा ने कहा कि ऐसा कोई बयान नही आया है। यह राहुल गांधी की अपनी मनगढ़ंत कहानियां है और वह झूठ बोल रहे हैं।

भाजपा नेता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में भी राहुल गांधी के कहने पर कुछ लोग इस मुद्दे को लेकर के गए थे, लेकिन बाद में याचिका को पता नही क्यो वापस ले लिया गया। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि कभी राहुल गांधी सीवीसी तो कभी सीएजी जाते हैं। कभी प्रेस वार्ता करते हैं। राहुल गांधी को दस्तावेज लेकर कोर्ट जाना चाहिए। राहुल किसी को भी ठीक नहीं मानते। ना वह सुप्रीम कोर्ट को ठीक मानते हैं, ना वह वायुसेना अध्यक्ष की बात मानते हैं।

पीएम मोदी को अंबानी के प्रधानमंत्री बताए जाने पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि राहुल गांधी के पिता राजीव गांधी खुद उस क्वात्रोची के प्रधानमंत्री थे जिसने बोफोर्स में दलाली की थी। उन्होंने कहा- यह पूरी दुनिया जानती है और आपका परिवार मिडल मैन का परिवार माना जाता है।' संजय भंडारी और रॉबर्ट वाड्रा के रिश्ते भी जगजाहिर हैं। यही कारण है कि भाजपा पर भ्रष्टाचार का मनगढ़ंत आरोप लगाकर खुद को बचाने की कोशिश हो रही है। 

Posted By: Nancy Bajpai