जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कांग्रेस ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद भी शांति के पैगाम की पैरोकारी करने वाले नवजोत सिंह सिद्धू को राष्ट्रीय भावनाओं की अनदेखी नहीं करने की साफ नसीहत दी है। पार्टी ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले में जवानों की शहादत पर देश का गम और गुस्सा जायज है। ऐसे में किसी को भी राष्ट्रीय भावनाओं के अनुशासन को पार नहीं करना चाहिए।

सिद्धू के साथ ही कांग्रेस ने पुलवामा में शहीदों की शहादत का राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल की कोशिश पर आगाह करते हुए कहा कि ऐसा करने वाली पार्टियों और नेताओं को देश माफ नहीं करेगा।

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पुलवामा हमले के बाद सिद्धू के विवादित बयान पर मचे बवाल से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए यह नसीहत दी। पंजाब सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धू का नाम लिए बिना सिंघवी ने कहा कि यह देश के हर नागरिक और राजनीतिक कार्यकर्ता का कर्तव्य है कि वह देश की भावना के अनुरूप सोच समझकर बोले। देश की भावना से परे हटकर कोई बात नहीं करनी चाहिए।

इस दायरे को पार नहीं करने का सिद्धू को संदेश देते हुए सिंघवी ने कहा कि देश की भावना के अनुरूप ही बोलने के अनुशासन की परिपक्वता हर व्यक्ति को दिखानी चाहिए।

पुलवामा के शहीदों की शहादत को राजनीतिक लाभ के लिए इस्तेमाल करने की कोशिश शुरू होने से जुड़े सवाल पर सिंघवी ने कहा कि ऐसी हरकत जनता स्वीकार नहीं करेगी। ऐसा करने वाले दलों या नेताओं को जनता माफ भी नहीं करेगी। सत्ता से जुड़े संगठनों की ओर से स्वतंत्र विचार के लोगों को इस घटना के बाद निशाना बनाए जाने के सवाल पर सिंघवी ने कहा कि यह चिंता की बात है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि ऐसे मामले में हमें परिपक्वता दिखानी होगी क्योंकि आतंकी संगठन व उनके रहनुमाओं का मकसद ही हमें आपस में लड़ाने का है। कश्मीरी छात्रों पर हमले की घटनाओं को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए उन्होंने इसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की।

कश्मीरी छात्रों को निशाना बनाने पर हो सख्त कार्रवाई: सिंघवी

सिंघवी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों को निशाना बनाया जाएगा तो इसे अलगाववादी ताकतों को ही प्रोत्साहन मिलेगा और आतंकियों की यही रणनीति भी है। सिंघवी ने साथ ही जवानों की वीरता पर सवाल उठाने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की वकालत की।

पाकिस्तान के खिलाफ पुलवामा की जवाबी कार्रवाई को लेकर मुख्य विपक्षी दल से सरकार की चर्चा के सवाल पर सिंघवी ने कहा कि सर्वदलीय बैठक के अलावा किसी स्तर पर दूसरी चर्चा अभी नहीं हुई है। इस हमले में सुरक्षा और रणनीतिक चूक की बात पर सिंघवी ने कहा कि इस बारे में उठाए जा रहे तमाम सवाल लाजिमी हैं। इन सवालों पर तत्काल गौर किया जाना चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए कठोरतम कार्रवाई की जा सके।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस