नई दिल्ली, प्रेट्र। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में कुछ लोग जान-बूझकर धर्मनिरपेक्षता-सांप्रदायिकता का मुद्दा उछाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी को एक व्यक्ति, एक भारत की भावना से सहयोग करना चाहिए। सूचना और प्रसारण मंत्री ने कहा कि उनकी सरकार सभी प्रकार की फर्जी खबरों के खिलाफ है। उन्होंने अपने आलोचकों पर झूठ बोलने और सच्चाई उजागर होने पर माफी नहीं मांगने का आरोप भी लगाया।

स्वास्थ्य कर्मियों के हमले पर जताया अफसोस

उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों पर हमलों के मामलों का हवाला दिया और अफसोस जताया कि इन घटनाओं पर उतनी चर्चा नहीं की गई है, जितनी होनी चाहिए। उन्होंने जोर दिया कि कोरोना वायरस महामारी धर्म, जाति या पंथ के साथ कोई भेदभाव नहीं करती है और इसके खिलाफ सभी को एकजुट होकर लड़ना होगा। इसलिए हर किसी को परीक्षण करने, क्वारंटाइन होने या पॉजिटिव पाए जाने पर अस्पताल में भर्ती होने के लिए सहयोग करना चाहिए।

सरकार नहीं करती कोई भेदभाव

यह पूछे जाने पर कि तब्लीगी जमात के माध्यम से कोरोना वायरस फैलने जैसी घटना का इस्तेमाल कुछ वर्गो में एक समुदाय को निशाना बनाने के लिए किया गया है, उन्होंने कहा कि यह सरासर झूठ है। सरकार कोई भेदभाव नहीं करती है। कोविड-19 के खिलाफ अभियान सबसे अच्छा उदाहरण है, जहां कई मामलों में प्रतिरोध के बावजूद स्वास्थ्य कार्यकर्ता मरीजों का पता लगाने के लिए घर-घर जा रहे हैं। कुछ लोगों ने जानबूझकर इसे धर्मनिरपेक्षता-सांप्रदायिकता का रंग दिया है।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस