बेंगलुरु, एएनआइ। पीएम नरेंद्र मोदी बेंगलुरू पहुंच गए है।वह दो दिवसीय यात्रा पर बेंगलुरू और तुमकुरू में रहेंगे। इस दौरान वह रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) की यात्रा सहित विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेंगे। वह फिलहाल तुमकुर में श्री सिद्धगंगा मठ में एक सभा को संबोधित किया।इस दौरान उन्होंने पाकिस्तान से लेकर भारत की 21वीं सदी की शुरुआत को लेकर बात की।

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि आज मैं संत समाज से 3 संकल्पों में सक्रिय सहयोग चाहता हूं।पहला- अपने कर्तव्यों और दायित्वों को महत्व देने की अपनी पुरातन संस्कृति को हमें फिर मजबूत करना है। दूसरा, प्रकृति और पर्यावरण की रक्षा और तीसरा, जल संरक्षण, जल संचयन के लिए जनजागरण में सहयोग। उन्होंने आगे कहा कि भारत ने हमेशा संतों को, ऋषियों को, गुरुओं को सही मार्ग के लिए एक प्रकाश स्तंभ के रूप में देखा है। न्यू इंडिया में भी सिद्दागंगा मठ, आध्यात्म और आस्था से जुड़े देश के हर नेतृत्व की भूमिका अहम है।

कर्नाटक के तुमकुर में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री न कहा कि अगर आपको नारे लगाने ही हैं तो पाकिस्तान में जिस तरह अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहा है, उसे जुड़े नारे लगाइए।अगर आपको जुलूस निकालना ही तो पाकिस्तान से आए हिंदू-दलित-पीड़ित-शोषितों के समर्थन में जुलूस निकालिए।

तुमकुर में श्री सिद्धगंगा मठ में बोलते हुए PM मोदी ने कहा कि जो लोग आज भारत की संसद के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं, मैं कहना चाहता हूं कि आज जरूरत है अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की गतिविधियों का पर्दाफाश करने की। अगर आपको आंदोलन करना है, तो पिछले 70 वर्षों के पाकिस्तान के कार्यों के खिलाफ आवाज उठाइए।

उन्होंने कांग्रेस की नीति को लेकर उनपर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान का गठन धर्म के आधार पर किया गया था, वहां धार्मिक अल्पसंख्यकों को सताया जा रहा था। उत्पीड़ितों को शरणार्थी के रूप में भारत आने के लिए मजबूर किया गया। लेकिन कांग्रेस और उसके सहयोगी पाकिस्तान के खिलाफ नहीं बोलते हैं, इसके बजाय वे इन शरणार्थियों के खिलाफ रैलियां निकाल रहे हैं।

कर्नाटक के तुमकुरु में श्रीसिद्धगंगा मठ में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने 21 वीं सदी के तीसरे दशक में नई ऊर्जा और नए जोश के साथ प्रवेश किया है। आपको याद होगा कि पिछले दशक की शुरुआत के समय देश में किस तरह का माहौल था। लेकिन यह तीसरा दशक उम्मीदों और आकांक्षाओं की मजबूत नींव के साथ शुरू हुआ है।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं कि इस पवित्र भूमि से वर्ष 2020 की शुरुआत कर रहा हूं। मेरी कामना है कि श्री सिद्धगंगा मठ की यह पवित्र ऊर्जा हमारे देश के लोगों के जीवन को समृद्ध बनाए।

डीआरडीओ की पांच प्रयोगशालाओं का उद्घाटन

पीएम मोदी गुरुवार को ही बेंगलुरु में डीआरडीओ की पांच युवा वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं का उद्घाटन करेंगे। ये प्रयोगशालाएं रक्षा क्षेत्र में भारत की शोध संभावनाओं को बल प्रदान करेंगी।

PM मोदी का तुमकुरु दौरा

पीएम मोदी तुमकुरु की सभा में आठ राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के अंतर्गत पीएम-किसान योजना का लाभ पाने वालों को प्रमाण पत्र भी सौंपेंगे। यहां वह तमिलनाडु के चुनिंदा किसानों को गहरे समुद्र में मछली पकड़ने के लिए जहाज और उसका ट्रांसपोंडर सौंपेंगे। ट्रांसपोंडर को मछली पकड़ने वाले जहाजों में लगाया जाता है। इसके जरिये नियत फ्रिक्वेंसी पर संवाद किया जा सकता है। वह कर्नाटक के चुनिंदा किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) भी सौंपेंगे।

श्री श्री शिवकुमार स्वामी के संग्रहालय का करेंगे शिलान्यास

पीएम मोदी तुमकुरु स्थित श्री सिद्धगंगा मठ में श्रीश्री शिवकुमार स्वामी के संग्रहालय का शिलान्यास भी करेंगे। यहां वह पौधे भी लगाएंगे। इस दौरान कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा व सिद्धलिंगेश्वर स्वामी समेत कई गणमान्य लोग मौजूद रहेंगे।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस