नई दिल्ली, प्रेट्र। मामल्लपुरम समुद्र तट पर सूर्य की तरोताजा करने वाली किरणों, सागर की सरसराती लहरों और सुबह के शांत वातावरण ने पीएम मोदी को अपने विचारों को कविता की माला में पिरोने को प्रेरित किया। मोदी ने कहा कि समुद्र तट पर सैर करते हुए वह सागर के साथ 'संवाद' में खो गए। उन्होंने रविवार को हिंदी में ट्विटर पर लिखा, 'ये संवाद मेरा भाव-विश्व है। इस संवाद भाव को शब्दबद्ध करके आपसे साझा कर रहा हूं।'

मोदी ने शनिवार को समुद्र तट पर 'प्लॉगिंग' (सुबह की सैर के दौरान प्लास्टिक की बोतल आदि कचरा चुनना) का अपना तीन मिनट का एक वीडियो जारी किया, जिसमें वह कूड़ा उठाते और लोगों से सार्वजनिक स्थानों को साफ और स्वच्छ रखने की अपील कर रहे हैं। आठ पैराग्राफ में लिखी कविता में मोदी ने सागर के सूर्य से संबंध, लहरों और उनके दर्द को बताया है। उनका कविता संग्रह 'एक यात्रा' पहले ही उपलब्ध है।

   

समुद्र तट पर प्लॉगिंग करते वक्त मोदी के हाथ में था एक्यूप्रेशर रोलर

शनिवार को मामल्लपुरम समुद्र तट पर प्लॉगिंग के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथ में एक छड़ीनुमा चीज थी। इस संबंध में लोगों की जिज्ञासा को खत्म करते हुए पीएम ने रविवार को बताया कि वह एक्यूप्रेशर रोलर था जिसका वह अकसर इस्तेमाल करते हैं।

मोदी ने ट्वीट किया, आप में से कई लोग पूछ रहे हैं कि- मामल्लपुरम में समुद्र तट पर प्लॉगिंग के वक्त मेरे हाथ में क्या था। वह एक एक्यूप्रेशर रोलर था जिसका मैं अकसर इस्तेमाल करता हूं। मुझे यह बहुत मददगार लगता है। उन्होंने उस एक्यूप्रेशर रोलर की तस्वीरें भी पोस्ट की जो वह समुद्र तट पर लिए खड़े थे।

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस