नई दिल्‍ली, ब्‍यूरो/एजेंसी। सुप्रीम कोर्ट ने Ayodhya Land Dispute Case की सुनवाई का लाइव टेलीकास्ट या उसके रिकॉर्डिंग की मांग वाली याचिका पर सुनवाई के लिए बुधवार को 16 सितंबर की तारीख तय की। बीते शुक्रवार को अदालत ने मुख्‍य न्‍यायाधीश रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi) की अध्‍यक्षता वाली पीठ के समक्ष इस याचिका को सूचीबद्ध करने का निर्देश दिया था। यह याचिका गोविन्दाचार्य की ओर से दाखिल की गई है। 

पिछली सुनवाई पर गोविन्दाचार्य की ओर से पेश वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने पिछले साल के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला दिया था। फैसले में शीर्ष अदालत ने महत्वपूर्ण संवैधानिक महत्व के मामलों की सुनवाई के लाइव प्रसारण की बात कही थी। याचिका में कहा गया है कि चूंकि यह देश का सबसे चर्चित मसला है और इसे संविधान पीठ सुन रही है, देश के लोग भी इसकी सुनवाई के बारे में जानना चाहते हैं, ऐसे में इसकी रिकॉर्डिंग कराई जानी चाहिए। 

इस पर सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने कहा था कि वाकई यह बेहद संवेदनशील मसला है, इसलिए हम मुख्‍य न्‍यायाधीश से आग्रह करते हैं कि इस याचिका पर वह खुद फैसला लें। इससे इतर बुधवार को अयोध्या केस की सुप्रीम कोर्ट में लगातार 21वें दिन सुनवाई हुई। सुन्नी वक्फ बोर्ड का पक्ष रख रहे वकील राजीव धवन ने जिरह की।  

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के 19वें दिन मुस्लिम पख के वकील राजीव धवन ने याचिकाकर्ता मोहम्मद हाशिम के पुत्र इकबाल अंसारी और अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह के बीच हुई झड़प का मुद्दा उठाया था। इस पर सर्वोच्‍च अदालत ने उन्‍हें आश्‍वस्‍त किया कि हम इस पर विचार करेंगे। बताया जाता है कि इकबाल अंसारी और वर्तिका सिंह के बीच विवाद तीन तलाक और मंदिर-मस्जिद मुद्दे पर चर्चा के दौरान बढ़ा था। इकबाल का कहना है कि वर्तिका मस्जिद पर दावा वापस लेने की जिद पकड़े थीं, जब इन्कार किया तो उग्र हो गईं। जबकि वर्तिका ने इकबाल पर भड़काऊ बातें करने और बुरे बर्ताव का आरोप लगाया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस