गगन कोहली, राजौरी। पूरी तरह कंगाल हो चुका पाकिस्तान कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को जारी रखने के लिए अब कटोरा लेकर लोगों से चंदा जुटा रहा है। कश्मीर के नाम पर पाकिस्तान गुलाम कश्मीर में 'यूथ फेस्टिवल' करवा रहा है। इसमें शामिल होने के लिए 50 रुपये टिकट निर्धारित की है, जिसपर बाकायदा लिखा है कि 'टिकट खरीदकर कश्मीरियों के साथ मुहब्बत का सुबूत दें'। वहीं फेस्टिवल का असली मकसद युवाओं को आतंक के रास्ते पर चलने के लिए गुमराह भी करना है।

अनुच्छेद 370 हटने से पाक में बौखलाहट

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाकिस्तान सरकार हो या फिर पाक सेना सभी बौखलाहट में हैं। कभी युद्ध तो कभी परमाणु हमले की धमकी देने वाला पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी एक्सपोज हो चुका है।

आतंकवाद की फैक्ट्री चलाने के लिए पैसा नहीं

पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के पास आतंकवाद की फैक्ट्री चलाने के लिए पैसा नहीं है। 70 वर्षों से कश्मीर-कश्मीर करने वाले पाकिस्तान को भारत ने 370 हटाकर अब गुलाम कश्मीर के बारे में सोचने पर मजबूर कर दिया है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी पाक की किरकिरी हो रही है।

फेस्टिवल के टिकट गुलाम कश्मीर में बिक रहे

कश्मीर में आतंकवाद के नाम पर पैसे इकट्ठा करने के लिए अब पाक गुलाम कश्मीर में यूथ फेस्टिवल करवा रहा है। फेस्टिवल के टिकट गुलाम कश्मीर में बिक रहे हैं। पाक सरकार और सेना ने कर्मियों और अधिकारियों को टिकट बेचने की जिम्मेदारी सौंपी है। स्कूलों-कॉलेजों और दफ्तरों में टिकट बेची जा रही हैं। वे आवाम को कश्मीर बचाने की दुहाई दे रहे हैं और कह रहे हैं कि आपकी टिकट से कश्मीर में जिहाद को बढ़ावा देंगे।

लोग पाक के खिलाफ खोले हैं मोर्चा

पहले से ही गुलाम कश्मीर में अधिकतर लोग पाक सरकार व पाक सेना के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। वे भारत में शामिल होने के लिए दुहाई दे रहे हैं। ऐसे में इस तरह की हरकतों से साफ हो गया है कि पाक कार्यक्रमों के आयोजन कर पैसे जुटाने के साथ युवाओं को बरगलाएगा।

युवाओं को गुमराह करने की तैयारी में पाक

सूत्रों का कहना है कि यूथ फेस्टिवल में काफी संख्या में युवाओं के शामिल होने की संभावना है। ऐसे में आतंकी संगठनों से कुछ लोग फेस्टिवल में पहुंचकर कश्मीर के नाम पर युवाओं को गुमराह कर आतंक के रास्ते पर चलने को मजबूर कर सकते हैं। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले पाक पीएम इमरान खान लोगों से नियंत्रण रेखा के पास जाने की बात कह चुके हैं।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप