नई दिल्ली, आइएएनएस। मोदी सरकार सोमवार से संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने पर गंभीरता से विचार कर रही है। कई राज्यों में पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा और सोशल डिस्टेंसिंग की अपील का खुद ही पालन नहीं करने की आलोचनाओं को देखते हुए सरकार यह कदम उठा सकती है।संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही सोमवार को दोपहर बाद दो बजे शुरू होगी।

सरकार इस दौरान वित्त विधेयक पारित करा सकती है।सत्ता पक्ष सदन का इस्तेमाल लोगों से घरों में बने रहने की अपील करने के लिए भी कर सकता है। सूत्रों ने कहा कि सरकार इसके बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल तक स्थगित करा सकती है। ऐसे समय में जब सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दिया जा रहा है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने व्यक्तिगत रूप से जनता कफ्यरू को संभव बनाया है तब सदन की कार्यवाही संचालित होने के कारण सरकार आलोचना का शिकार हो रही है।

भाजपा के सदस्य दुष्यंत सिंह के करीब जाने के कारण तृणमूल कांग्रेस के डोरेक ओ ब्रायन और आम आदमी पार्टी के संजय सिंह जैसे कई सदस्य सेल्फ-क्वारंटाइन में चले गए हैं। भाजपा नेता दुष्यंत कोरोना वायरस से संक्रमित गायिका कनिका कपूर के संपर्क में आए थे और उसके बाद उन्होंने संसद की कार्यवाही में भाग भी लिया था। अब तृणमूल कांग्रेस ने लोकसभा अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति को अधिकृत रूप से पत्र लिखकर कहा है कि जानलेवा बीमारी का संक्रमण बढ़ने के कारण उसके सदस्य संसद में भाग नहीं ले सकते हैं।

तृणमूल कांग्रेस ने अपने सांसदों को दिए निर्देश

इससे पपहले कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर तृणमूल कांग्रेस ने अपने सभी सांसदों को निर्देश दिया है कि वे संसद सत्र छोड़कर अपने-अपने क्षेत्र में लौट आयें।राज्यसभा में पार्टी के नेता डेरेक ओ ब्रियेन व लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंधोपाध्याय ने दोनों सदनों के पीठासीन अधिकारियों को पत्र लिखकर सोमवार 23 मार्च तक सदन की कार्यवाही संपन्न करने का आग्रह किया है। वर्तमान में तृणमूल के लोकसभा में 22 व राज्यसभा में 13 सदस्य हैं।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस