नई दिल्ली, एजेंसी। मानसून सत्र के दूसरे दिन भारत-चीन गतिरोध पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में बयान दिया। बयान के बाद कांग्रेस सासंदों ने सदन से वॉकआउट कर दिया। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन ने कहा कि हमें सदन में बोलने नहीं दिया गया। सरकार भारत-चीन मुद्दे पर बात करने से बच रही है। हम दो लाइन बोलना चाहते थे, लेकिन सरकार चर्चा करने से भाग रही है। पूरी दुनिया में चर्चा होती है। हमारे सदन में भी चर्चा हो सकती है। ये हमारा अधिकारी है। हम भी यहां के नागरिक हैं।

Parliament Monsoon Session Updates:

चीन ने पैंगोंग में घुसने की कोशिश की

राजनाथ सिंह ने कहा कि दोनों देशों (भारत-चीन) को यथास्थिति बनाए रखना चाहिए और शांति व सद्भाव सुनिश्चित करना चाहिए। चीन भी यही कहता है, लेकिन तभी 29-30 अगस्त की रात्रि में फिर से चीन ने पैंगोंग में घुसने की कोशिश की। हमारे सैनिकों ने उनकी कोशिश नाकाम कर दी। मैं सदन को आश्वस्त करना चाहता हूं कि देश की सीमाएं सुरक्षित हैं और हमारे जवान मातृभूमि की रक्षा में डटे हुए हैं।

38,000 वर्ग किलोमीटर भूमि पर चीन का कब्जा

रक्षा मंत्री ने कहा 'यह सदन अवगत है कि चीन ने लद्दाख में भारत की लगभग 38,000 वर्ग किलोमीटर भूमि पर अनधिकृत कब्जा कर रखा है। इसके अलावा, 1963 में एक तथाकथित बाउंड्री एग्रीमेंट के तहत, पाकिस्तान ने PoK (गुलाम कश्मीर) की 5180 वर्ग किलोमीटर भारतीय जमीन अवैध रूप से चाईना को सौंप दी है। यह भी बताना चाहता हूँ कि अभी तक भारत-चीन के सीमावर्ती इलाके में कोई ऐसी लाइन ऑफ कंट्रोल (LAC) नहीं है, जिस पर दोनों देश सहमत हों। LAC को लेकर दोनों देशों की धारणा अलग-अलग है।

हमारे जवानों ने कड़ा संदेश दिया

अप्रैल माह से लद्दाख सीमा पर चीन के सैनिकों और हथियारों में वृद्धि देखी गई। चीनी सेना ने हमारी पट्रोलिंग में बाधा उत्पन्न की, जिसकी वजह से तनाव की स्थित बनी। हमारे बहादुर जवानों ने चीनी सेना को भारी क्षति पहुंचाई और सीमा की भी सुरक्षा की। हमारे जवानों ने जहां शौर्य की जरूरत थी शौर्य दिखाया और जहां शांति की जरूरत थी शांति बनाए रखी।

चीन पर रक्षामंत्री का बयान

राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख का दौरा कर हमारे जवानों से मुलाकात की। उन्होंने यह संदेश भी दिया कि वह हमारे वीर जवानों के साथ खड़े हैं। मैंने भी लद्दाख जाकर अपनी यूनिट के साथ समय बिताया था। मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि वहां मैंने उनके साहस, शौर्य व पराक्रम को महसूस भी किया था।

स्वास्थ्य मंत्री का बयान

वहीं राज्य सभा में स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया कि देश में कोरोना वायरस से मृत्यु दर 1.67 प्रतिशत और रिकवरी रेट 77.65 प्रतिशत है। 10 लाख पर औसतन 55 मौतें हुई हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना से लंबी लड़ाई लड़नी है। मैं बताना चाहता हूं कि सरकार सभी जरूरी कदम उठा रही है जिससे कोरोना पर नियंत्रण पाया जा सके।

राज्यसभा में एयरक्राफ्ट (अमेंडमेंट) बिल 2020 पास

राज्यसभा में वायुयान संशोधन विधेयक पर बहस के दौरान एनसीपी सांसद प्रफुल पटेल ने कहा कि आने वाले समय में सिविल एविएशन सेक्टर की जरूरतें बढ़ने वाली हैं। ऐसे में हमें ज्यादा एयरपोर्ट्स और एयरलाइन्स की जरूरत होगी। बहुत पहले मंजूर हुए एयरपोर्ट भी अभी अधूरे हैं। इसके साथ ही राज्यसभा में एयरक्राफ्ट (अमेंडमेंट) बिल 2020 पास हो गया।

एयर इंडिया है तो हिंदुस्तान है : टीएमसी सांसद

सदन में चर्चा के दौरान टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी ने कहा, 'वंदे भारत मिशन के तहत भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए मैं सरकार का आभार व्यक्त करता हूं। यह सब किसने किया? एयर इंडिया ने। आप चाहें तो एयर इंडिया के ढांचे में परिवर्तन कर दें, लेकिन इसे बेचिए नहीं। एयर इंडिया है तो हिंदुस्तान है।'

अडानी ग्रुप को लेकर कांग्रेस का सवाल

कांग्रेस सांसद केसी वेणुगोपाल ने आरोप लगाया कि अडानी ग्रुप को 6 एयरपोर्ट सौंप दिए गए हैं। एक अकेली प्राइवेट कंपनी को 6 एयरपोर्ट देना नियमों का उल्लंघन है। सरकार ने अपने ही मंत्रालयों और विभागों की सलाह नहीं मानी। नियमों में परिवर्तन करके अडानी ग्रुप को नीलामी में जिता दिया गया।

रवि किशन पर भड़कीं जया बच्चन

राज्यसभा में समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन ने कहा कि बॉलीवुड के लोगों को सोशल मीडिया के जरिए परेशान किया जा रहा है। जिन लोगों को इंडस्ट्री ने नाम दिया, वही इसे गटर कह रहे हैं। मैं इससे असहमत हूं। सरकार को इन लोगों से कहना चाहिए कि ऐसी भाषा का इस्तेमाल न करें। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों की वजह से पूरी इंडस्ट्री को बुरा नहीं कहा जा सकता। मुझे शर्म आती है कि कल एक शख्स जो खुद उसी इंडस्ट्री से है, इसके विरोध में बोल रहा था। यह शर्मनाक है।

विरोध के बीच कई विधेयक पारित

सत्र के पहले ही दिन सरकार ने लोकसभा में पांच विधेयक पेश किए। कृषि सुधारों से जुड़े अध्यादेशों पर विपक्षी विरोध के बावजूद तीन विधेयक पेश किए गए। सरकार ने लोकसभा से दो विधेयक पारित भी करा लिये। वहीं, कांग्रेस ने सदन के अंदर और बाहर कृषि क्षेत्र से जुड़े विधेयकों का भारी विरोध करते हुए कहा कि सरकार खेती-किसानी को पूंजीपतियों के हवाले कर, किसानों और मंडियों को उनके रहमोकरम पर छोड़ रही है।

करीब 30 संसद सदस्य कोरोना पॉजिटिव

संसद का मानसून सत्र सोमवार को शुरू होने के पूर्व लोकसभा और राज्यसभा सचिवालय के स्टॉफ और सभी संसद सदस्यों की कोविड-19 की जांच की गई। इसमें करीब 30 संसद सदस्य और 50 से अधिक कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए। इन सभी को क्वारंटाइन में रहने और संसद भवन नहीं आने के लिए कहा गया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस