भोपाल, एएनआइ। सलमान खुर्शीद के बयान से मचे घमासान के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि पार्टी वर्तमान में जिन हालात से गुजर रही है, उसमें आत्मचिंतन की जरूरत है। ताकि उस पर क्रियान्वयन कर स्थिति को सुधारा जा सके। सिंधिया अपने निवास जयविलास पैलेस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मैं किसी के वक्तव्य पर कभी कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करता हूं, लेकिन ऐसा मेरा मानना है।

उन्होंने कमलनाथ मंत्रिमंडल के विस्तार पर अनभिज्ञता जताई। महाराष्ट्र में चुनाव के सवाल पर कहा कि वहां दो पूर्व मुख्यमंत्री, वर्तमान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व सदन के नेता सहित पूरी टीम मिलजुलकर काम कर रही है। मुझे केवल स्क्रीनिंग कमेटी का दायित्व सौपा गया है। उसे पूरी जिम्मेदारी के साथ निभा रहा हूं।

कांग्रेस का भविष्य अधर में

बता दें कि राहुल गांधी को लेकर सलमान खुर्शीद ने कहा था कि हमारे नेता राहुल गांधी के अध्‍यक्ष पद को छोड़कर चले जाने से पार्टी का भविष्‍य अधर में पड़ गया है। कांग्रेस की जो हालत है उसमें वह अपना भविष्‍य तय नहीं कर सकती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि हमारी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हमारे नेता (राहुल गांधी) अध्यक्ष पद छोड़ कर चले गए हैं।

लोकसभा चुनाव में पार्टी को मिली बड़ी हार के बाद पार्टी पूरी तरह से बिखर गई। इस पर खुर्शीद ने कहा कि राहुल गांधी का अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद पार्टी के अंदर एक खालीपन पैदा हुआ है।

कांग्रेस नहीं तय कर सकती अपना भविष्य: खुर्शीद

लोकसभा चुनाव में पार्टी को मिली बड़ी हार के बाद पार्टी पूरी तरह से बिखर गई। इसपर भी खुर्शीद ने कहा कि राहुल गांधी का अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद पार्टी के अंदर एक खालीपन पैदा हुआ है। हमारे नेता लगातार पार्टी छोड़ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि मौजूदा वक्त में पार्टी ऐसे स्तर पर पहुंच गई है कि कांग्रेस अपना भविष्य तक नहीं तय कर सकती है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस नेता संजय निरूपम भी पार्टी से नाराज चल रहे हैं। उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे पर कई आरोप लगाए हैं। मल्लिकार्जुन पर तंज कसते हुए संजय निरुपम ने कहा था कि ऐसे महान रणनीतिकार तो कांग्रेस को ही निपटा देंगे।

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप