नई दिल्ली, जेएनएन। कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में पूरा देश एक बार फिर एकजुट हो गया। इस महामारी के अंधकार को चुनौती देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर देश के 130 करोड़ लोग रात नौ बजे नौ मिनट के लिए दीये जलाए। दिल्ली एनसीआर से लेकर देश के कोने-कोने से लोगों ने घरों के बाहर दीये और मोमबत्ती जलाकर ये संदेश दिया कि वो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एकजुट हैं।

9Pm9Minute Updates:

- कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता दिखाते हुए तमिलनाडु के चेन्नई सेंट्रल में सोसायटी के लोगों ने अपने घरों की सारी बत्तियां बंद कर दी और घरों में कुछ दीपक जलाए, जिसके बाद सोसायटी का नजारा बहुत ही ज्यादा मनमोहक दिखाई दिया।

- अहमदाबाद में लोगों ने अपने घरों की बत्तियाँ बंद कर दी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई को चिह्नित करने के लिए सभी को अपने घरों की सभी लाइटों को आज रात 9 बजे 9 मिनट के लिए बंद करने का अनुरोध किया था। जिसपर पूरे देश ने अपने घरों की बालकनी में दिये जलाए हैं।

- आज रात 9 बजे 9 मिनट पर पीएम मोदी के आह्वान पर चेन्नई में लोग मिट्टी के दीये जलाए। सभी लोगों ने घरों की लाइट बंद कर दी और सिर्फ एक मोमबत्ती या 'दीया' जलाया है। इस दौरान लोगों ने मोबाइल की टॉर्च जलाकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता दिखाई है।

- कोरोना संकट में लोगों की एकता को लेकर अब से कुछ ही देर में जलाए जाने वाले दीपकों पर श्री श्री रविशंकर ने कहा कि आएये हम सब पूरी दुनिया के लिए हम दीपक जलाएं और लोगों के दिल और दिमाग को हल्का करें। यह सकारात्मकता आशा और एकजुटता बनाने का समय है। पीएम मोदी ने रविशंकर के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा कि आपका समर्थन हमारे लिए मूल्यवान है।

- पर्वतारोही मेघा परमार ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि पूरे देश को 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट पर घरों में रहकर दीपक या मोमबत्ती जलाकर प्रकाश करने की अपील के लिए पीएम मोदी को सहृदय धन्यवाद। जिस पर पीएम मोदी ने रिट्वीट करते हुए लिखा कि आपका यह संदेश कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देशवासियों के संयम और साहस को बल देने वाला है।

- तीन अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी ने एक वीडियो संदेश में देश की जनता से यह अपील की थी। उन्होंने कहा था कि इस रविवार रात नौ बजे नौ मिनट के लिए हर व्यक्ति घर की सभी लाइटें बंद करके अपने दरवाजे या बालकनी में आकर दीया, मोमबत्ती, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाए। चारों तरफ जब हर व्यक्ति एक-एक दिया जलाएगा, तब प्रकाश की महाशक्ति का अनुभव होगा। यह उजागर होगा कि एक ही मकसद से हम सब लड़ रहे हैं।

- पीएम मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में कहा था कि उस प्रकाश के बीच हम सब अपने मन में संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं। 130 करोड़ भारतीय एक ही संकल्प से बंधे हैं। हमारे उत्साह से बड़ी कोई ताकत नहीं है। कोरोना के विरुद्ध युद्ध को भी इसी उत्साह से जीतना है।

अटल को किया याद

शनिवार को मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की एक वीडियो क्लिप ट्वीट करते हुए लोगों को फिर दीप जलाने के संकल्प की याद दिलाई। इस वीडियो क्लिप में वाजपेयी अपनी एक प्रसिद्ध कविता का पाठ करते दिख रहे हैं। इस कविता की पंक्तियां कुछ इस तरह हैं-भरी दुपहरी में अंधियारा, सूरज परछाईं से हारा, अंतरतम का नेह निचोड़ें, बुझी हुई बाती सुलगाएं, आओ फिर से दीया जलाएं।

मानें हिदायत

मोदी ने अपने संदेश में विशेषतौर पर उल्लेख किया कि लोग दीप जलाने की इस प्रक्रिया में भी एक-दूसरे से दूरी बनाए रखने के निर्देशों का पूरा पालन करें। कहीं भी एकत्र होकर दीया जलाने जैसे समारोह का आयोजन नहीं किया जाए। लॉकडाउन का पूरी सख्ती से पालन करते हुए अपनी छतों, बालकनी या दरवाजे पर ही दीया जलाना है। स्पष्ट तौर पर प्रधानमंत्री का इशारा उन घटनाओं की ओर था, जब जनता क‌र्फ्यू के दिन कुछ लोग ताली, थाली बजाने के लिए गलियों में उतर आए थे।

बरते सतर्कता

इस बीच सरकार ने दीया, मोमबत्ती जलाने वालों के लिए विशेष निर्देश भी जारी किया है। इसमें कहा गया है कि दीया या मोमबत्ती जलाने से पहले अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग कतई नहीं करें। अल्कोहल बहुत ज्वलनशील होता है। ऐसे में सैनिटाइजर के इस्तेमाल से आग पकड़ने का खतरा रहेगा। सरकार ने कहा है कि दीया जलाने से पहले हाथ धोने के लिए साबुन का इस्तेमाल करें। भारतीय सेना ने भी लोगों से इसी तरह की सतर्कता बरतने को कहा है।

जनता क‌र्फ्यू में दिखी थी एकजुटता

प्रधानमंत्री मोदी की अपील पर 22 मार्च को जनता क‌र्फ्यू के दौरान भी देश ने एकजुटता दिखाई थी। उस दिन मोदी ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस वालों व अन्य आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के सम्मान में शाम पांच बजे पांच मिनट के लिए लोगों से ताली, थाली आदि बजाने की अपील की थी। इस अपील पर पूरे देश ने एक साथ ताली, थाली और शंख बजाकर इस युद्ध में अपनी एकजुटता दिखाई थी।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस