नई दिल्ली, एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने हाल ही सरकार के विभिन्न प्रॉजेक्ट्स की समीक्षा के लिए बैठक हुलाई थी। इस समीक्षा बैठक का नाम 'प्रगति' (Pragati) था। इस दौरान पीएम मोदी ओडिशा के चर्चित खुर्दा-बलांगीर रेलवे प्रॉजेक्ट ( Khurda Bolangir Railway Project) की स्टेटस रिपोर्ट से काफी प्रभावित हुए। 25 साल पुराना खुर्दा-बलांगीर रेलवे लाइन 1995 से लटका हुआ था।

साल 2015 में पीएम मोदी की नजर इस रेलवे प्रॉजेक्ट पर पड़ी। पीएम इसकी स्टेटस रिपोर्ट से उस वक्त वह बेहद नाराज हुए थे। उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए पीएमओ के अधिकारियों से कहा था कि यह इलाका सबसे जरूरतमंद लोगों का घर है, जो बाकी इलाकों से पिछड़ा है और सरकारी मदद की उन्हें बेहद जरूरत है। पीएम ने कहा था कि इस प्रॉजेक्ट को प्राथमिकता देने की जरूरत है। यदि साल 2000 तक काम खत्म हो गया होता प्रॉजेक्ट की कीमत भी कम होती और पूर्वोत्तर भारत के लोगों को इसका फायदा भी मिलता।

सूत्रों ने कहा कि स्टेटस रिपोर्ट में बताया गया कि रेलवे ट्रैक का काम सही रफ्तार से चल रहा है और तय वक्त में यह जरूर खत्म हो जाएगा। पीएमओ अधिकारियों का कहना है कि खुर्दा-बालंगीर रेलवे लाइन का स्टेटस रिपोर्ट साबित करता है कि 'प्रगति' प्लैटफॉर्म पर अन्य योजनाएं भी सुचारू ढंग से चल रही हैं।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस