नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी टीम से बुजुर्ग जनार्दन द्विवेदी, दिग्विजय सिंह और सुशील कुमार शिंदे जैसे दिग्गज नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया है। नवगठित कांग्रेस कार्यसमिति में 23 सदस्य होंगे। इनके अतिरिक्त 19 नेता स्थाई तो 9 विशेष आमंत्रित के तौर पर शामिल किए गए हैं। आगामी रणनीति पर मंथन करने के लिए 22 जुलाई को पहली बैठक रखी गई है। नई टीम में युवा नेताओं के साथ उम्रदराज दिग्गज भी शामिल हैं।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के अलावा पूर्व मुख्यमंत्रियों अशोक गहलोत, ओमन चांडी, तरुण गगोई, सिद्दरमैया व हरीश रावत को इसमें जगह दी गई है। रावत को असम का प्रभारी भी बनाया गया है। जो दिग्गज बाहर हुए उनमें कमल नाथ, करन सिंह, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, हिमाचल के वीरभद्र सिंह, मोहन प्रकाश, आस्कर फर्नाडीज, सीपी जोशी और मोहसिना किदवई भी शामिल हैं।

वासनिक व गहलोत नए चेहरे 

जिन नेताओं को इसमें सदस्य के तौर पर जगह दी गई है, उनमें मुकुल वासनिक, अविनाश पांडेय, केसी वेणुगोपाल, दीपक बबारिया, ताम्रध्वज साहू, गैकंघम व अशोक गहलोत शामिल हैं। गहलोत पिछले कुछ अर्से से राहुल के सबसे नजदीक दिखाई दे रहे हैं। उन्हें हाल ही में राष्ट्रीय महासचिव भी बनाया गया था।

चिदंबरम, शीला स्थाई आमंत्रित

जिन नए चेहरों को स्थाई आमंत्रित सदस्य बनाया गया है, उनमें दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित, पी चिदंबरम, ज्योतिरादित्य सिंधिया, रणदीप सुरजेवाला, बाबासाहेब थोराट, तारिक हमीद कारा व पीसी चाको हैं। मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला के लिए यह पदोन्नित जैसा है।

सभी राज्य प्रभारियों को जगह

नई टीम में सभी राज्य प्रभारियों को स्थाई आमंत्रित सदस्य के तौर पर रखा गया है। जितिन प्रसाद, आरपीएन सिंह, पीएल पूनिया, आशा कुमारी, रजनी पाटिल, रामचंद्र खुंटिया, अनुराग नारायण सिंह, राजीव एस साटव, शक्तिसिंह गोहिल, गौरव गगोई व ए छेला कुमार स्थाई आमंत्रित होंगे। हालांकि ये केवल पदेन सदस्य होंगे।

राहुल की टीम से भूपेंद्र सिंह हुड्डा की छुट्टी हुई है। अलबत्ता उनके पुत्र दीपेंद्र सिंह को विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर शामिल किया गया है। जितिन प्रसाद, कुलदीप विश्नोई, अरुण यादव केएम मुनियप्पा इस टीम के अन्य नए सदस्य हैं। पार्टी के प्रमुख संगठनों के प्रमुख के अलावा आइएनटीयूसी, सेवा दल, युवा कांग्रेस, महिला कांग्रेस व एनएसयूआइ के प्रमुखों को विशेष आमंत्रित सदस्य सदस्य बनाया गया है। ये लोग पदेन सदस्य भी होंगे। हालांकि 22 को होने वाली बैठक ज्यादा बड़ी होने जा रही है, क्योंकि इसमें कार्यसमिति के अलावा सभी राज्यों के प्रधानों के अलावा विधायक दल के नेताओं को भी बुलाया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव से पहले कार्यसमिति को भंग कर दिया गया था। इसकी टीम को स्टीयरिंग कमेटी में तब्दील कर दिया गया था। यह मार्च में हुए पार्टी के पूर्ण अधिवेशन तक काम कर रही थी। यानी मार्च के बाद से पहले की कांग्रेस कार्यसमिति का अस्तित्व खत्म हो गया था।


 

 

Posted By: Arun Kumar Singh