नई दिल्ली, आइएएनएस। मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा है कि देश मौजूदा सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए तैयार हो रहा है। देश अब इस सांप्रदायिक सरकार को बर्दाश्त करने के लिए तैयार नहीं है। इस जनभावना को बिखरने न देने के लिए वह जल्द ही समान विचारधारा वाले दलों को एकजुट करने के लिए अभियान पर निकलेंगे। पवार ने बुधवार को यह बात अपनी पार्टी के एक दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन में कही।

पवार ने कहा, वह राजग सरकार की विभाजनकारी नीतियों और उसके कार्यो से चिंतित हैं। सरकार की नीतियों और उनके प्रचार के तरीके से देश की एकता और अखंडता को खतरा पैदा हो गया है। राकांपा अध्यक्ष ने कहा, देश इस समय सांप्रदायिक राजनीति की गिरफ्त में है।

दक्षिणपंथी विचारधारा विकास और सांप्रदायिकता को साथ जोड़कर पेश कर रही है। उसकी योजना देश के बहुसंख्यक वर्ग को सांप्रदायिक आधार पर एकजुट करने की है। पवार ने कहा, हमारा देश अनेकता में एकता वाला है। यहां पर भिन्न-भिन्न संस्कृतियों और धर्मो के लोग धर्मनिरपेक्षता के सूत्र में बंधकर रहते आए हैं। अब उन सूत्रों को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है। हमें एक धर्म-एक देश का सिद्धांत अस्वीकार्य है।

अधिवेशन के बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पवार ने कहा, विपक्षी एकता पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई नेताओं से उनकी अनौपचारिक बातचीत हुई है। जल्द ही वह क्षेत्रीय दलों से इस बाबत औपचारिक वार्ता करने के लिए दौरे करेंगे। प्रदेशवार विपक्षी दल एकजुट हुए तो वे भाजपा के विकल्प के रूप में खड़े हो पाएंगे। चुनाव के बाद जिस दल के सबसे ज्यादा सांसद जीतकर आए होंगे, वह प्रधानमंत्री पद के लिए अपना दावा पेश करेगा। 

Posted By: Arun Kumar Singh