औरंगाबाद एएनआइ। अपने विवादित बयानों को लेकर इनदिनों चर्चा में रहने वाले एनसीपी नेता शरद पवार ने एकबार फिर शहीदों की लाशों पर राजनीति करने की कोशिश की है। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं और उससे ठीक पहले शरद पवार ने पुलवामा हमले पर एकबार फिर गंदी राजनीति शुरू कर दी है।

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनावों से पहले, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने विवाद बयान देते हुए कहा कि केवल पुलवामा हमले जैसी घटना महाराष्ट्र के लोगों के मूड को बदल सकती है। ऐसा उन्होंने भाजपा पर हमलावर होते हुए कहा। उनका कहना है कि राज्य में लगातार देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार के लिए नाराजगी है, ऐसे में केवल पुलवामा जैसी घटना ही लोगों का मूड बदल सकती है।

शरद पवार को करारा जवाब

शरद पवार के इस बयान के बाद खेल और युवा कल्याण मंत्री आशीष शेलार ने कहा कि पवार को पुलवामा हमले पर अपना रुख स्पष्ट करना होगा। एनसीपी प्रमुख शरद पवार पर यह दावा करने के लिए कि केवल पुलवामा जैसी घटना राज्य में लोगों के मूड को बदल सकती है। शरद पवार के इस बयान के बाद खेल और युवा कल्याण मंत्री आशीष शेलार ने कहा कि पवार को पुलवामा हमले पर अपना रुख स्पष्ट करना होगा।

हमारे सैनिकों ने पाकिस्तान में हवाई हमले करके पुलवामा के दौरान जान गंवाने वाले जवानों की मौत का बदला लिया। पूरी दुनिया उस घटना पर हमारे साथ खड़ी थी लेकिन शरद पवार इस पर सहमत होने के लिए तैयार क्यों नहीं थे। यह किस तरह की मानसिकता दिखाता है ? उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के लोग उनसे यह जानना चाहते हैं।

औरंगाबाद में शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान पवार ने कहा, 'लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ गुस्से और तनातनी का माहौल था। हालांकि, सीआरपीएफ जवानों पर पुलवामा में हुए हमले ने पूरे परिदृश्य को बदल दिया था।'

पवार ने आगे विवादित बयान देते हुए कहा, 'अब महाराष्ट्र में लोगों के मूड को एक और पुलवामा जैसी घटना से रोका जा सकता है।' पवार ने यह भी दावा किया कि जब उन्होंने इस साल फरवरी में पुलवामा हमले के बारे में पूछताछ की तो उन्हें संदेह था कि यह जानबूझकर किया गया था।

Posted By: Shashank Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप