राज्‍य ब्‍यूरो, भोपाल। मध्य प्रदेश के खाद्य मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की चरण वंदना की। यह घटना मीडिया के कैमरों में कैद होने के बाद तोमर ने कहा कि वह सिंधिया के सिपाही हैं और उनके लिए यह गर्व की बात है, जबकि सिंधिया ने इसके लिए तोमर को गाड़ी में बैठाकर डांटा। बाद में पत्रकारों से चर्चा में सिंधिया ने कहा कि यह गलत है। मैं इसके खिलाफ हूं। घटना सोमवार को सिंधिया के ग्वालियर पहुंचने पर रेलवे स्टेशन की है।

गौरतलब है कि तोमर हर बार सिंधिया के पैर छूते हैं। मंत्री बनने से पहले भी सिंधिया को दंडवत भी कर चुके हैं। उधर, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रद्युम्न सिंह तोमर के नेता हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया। वे उनको अपना नेता मानते हैं तो महल के अंदर या सर्किट हाउस में भक्तिभाव दिखाएं, सार्वजनिक रूप से कदमों पर लेटना लोकतंत्र का अपमान है।

अब श्रम मंत्री बोले-मैं महाराज सिंधिया का चौकीदार हूं..

अब श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया ने खुद को सिंधिया का चौकीदार बताया है। मंगलवार को गुना जिले के बमोरी विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर आए श्रम मंत्री ने कहा कि यह क्षेत्र महाराज सिंधिया का परिवार है और मैं उनका चौकीदार हूं।

गुरुद्वारे में निगमायुक्त ने छुए मंत्री वर्मा के पैर

उधर, मंगलवार को देवास के गुरुद्वारे में निगमायुक्त संजना जैन ने मंत्री सज्जन वर्मा के पैर छू लिए। इसका वीडियो वायरल होते ही राजनीतिक और प्रशासनिक हलकों में हड़कंप मच गया। मामले पर संजना जैन ने कहा कि छुट्टी वाले दिन मैं वहां पूजा कर रही थी। अपनी निजी आस्था के चलते अगर मैं कि सी को सम्मान देती हूं तो इसमें क्या गलत है। मंत्री वर्मा ने कहा कि भाईदूज के चलते उन्होंने पैर छुए हैं।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप