नई दिल्ली, प्रेट्र। हाल के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार पर चिंता व्यक्त करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने कहा कि हमें पार्टी में बड़ी सर्जरी करनी होगी। राहुल गांधी को कदम उठाने की जरूरत है। उन्हें सख्ती दिखानी होगी। बिना किसी दया के कार्रवाई करनी होगी। उन्हें यह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के स्तर पर भी करना होगा।

मोइली ने कहा कि राहुल गांधी ही पार्टी चला सकते हैं। उन्हें अध्यक्ष बना रहना चाहिए। पार्टी की हार पर राहुल ने नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश की। जवाबदेही राहुल गांधी की नहीं, बल्कि दूसरे नेताओं की तय होनी चाहिए। जिन राज्यों में हम हारे हैं वहां के प्रभारियों और प्रदेश अध्यक्षों को जवाबदेह ठहराना चाहिए। दूसरे नेताओं को भी नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

नेताओं की आपसी कलह खत्म हो
उन्होंने कहा कि सभी स्तरों पर चुनाव कराए जाएं। निर्वाचित हुए लोगों को जिम्मेदारी मिले। अगर हम ऐसा नहीं करेंगे तो पार्टी में जो नेता जमे हुए हैं वही आगे भी बने रहेंगे और नए लोग आगे नहीं आ पाएंगे। नेताओं की आपसी कलह को भी खत्म करना होगा।

राहुल के नेतृत्व का फायदा नहीं उठा सकी पार्टी
उन्होंने कहा कि राहुल जी ने अच्छी तरह नेतृत्व किया। पार्टी उनके नेतृत्व का फायदा नहीं उठा सकी। उन्होंने ऐसा माहौल तैयार किया जिससे यह लगने लगा था कि कांग्रेस सत्ता में आ रही है। राहुल गांधी ने डेढ़ साल पहले अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी ली। उनको भी समय मिलना चाहिए और वह खुद को साबित करेंगे।

प्रियंका को मिलना चाहिए समय
पार्टी में प्रियंका गांधी वाड्रा की भूमिका पर मोइली ने कहा कि यह उन (परिवार) पर है। प्रियंका को महासचिव की जिम्मेदारी दी गई है। वह कुछ समय पहले आई हैं और उन्हें समय मिलना चाहिए। वह उत्तर प्रदेश में काम कर रही हैं। एक बार कांग्रेस उत्तर प्रदेश में आ गई तो पूरे देश में आ जाएगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari