नई दिल्ली, जेएनएन। Lok Sabha Election 2019 में प्रचंड जीत के बाद गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रीमंडल ने शपथ ले ली है। शुक्रवार को सभी मंत्रियों को उनकी जिम्मेदारी भी सौंप दी गई है। मंत्रालयों की जिम्मेदारी मिलते ही शुक्रवार को ही मंत्रियों ने अपने कार्यालय में जाकर अपना कार्यभार भी संभाल लिया है। इन सबके बीच मोदी के दोबारा भारी बहुमत से विजय होने की चर्चा लगातार जारी है। प्रधानमंत्री ने दोबारा शपथ ग्रहण करने के साथ ही दो नए रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिए हैं।

पहला रिकॉर्ड उन्होंने पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद दोबारा देश की बागडोर संभालने का बनाया है। अब तक ये रिकॉर्ड पंडित जवाहर लाल नेहरू और पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम था। अभी तक के रिकॉर्ड में पंडित जवाहर लाल नेहरू एकमात्र ऐसे नेता हैं, जिन्होंने दो बार पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद तीसरी बार देश की बागडोर संभाली थी। गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेकर नरेंद्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह की बराबरी कर ली है।

मालूम हो कि मनमोहन सिंह वर्ष 2004 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली एनडीए गठबंधन की सरकार के प्रधानमंत्री बने थे। पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करने के बाद वर्ष 2009 में वह दोबारा एनडीए गठबंधन की सरकार में प्रधानमंत्री बने थे।

दूसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार
प्रधानमंत्री ने अपने दूसरे कार्यकाल के साथ एक और रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने 1971 के बाद लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। वर्ष 1971 के बाद ऐसा करिश्मा दिखाने वाले वह पहले प्रधानमंत्री हैं। इससे पहले दूसरी बार पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का रिकॉर्ड इंदिरा गांधी और जवाहर लाल नेहरू के नाम दर्ज था। इंदिरा गांधी और जवाहर लाल नेहरू के बाद पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने वाले नरेंद्र मोदी तीसरे प्रधानमंत्री हैं।

इसके अलावा दो बार लगातार पूर्ण बहुमत की गैर कांग्रेसी सरकार बनाने वाले वह देश के पहले प्रधानमंत्री भी हैं। जी हैं, देश में ऐसा पहली बार हुआ है जब कांग्रेस के अलावा किसी अन्य दल को लोकसभा में लगातार दो बार पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ हो। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी भाजपा को लोकसभा में 280 सीटें मिली थीं। इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने स्पष्ट बहुमत का आंकड़ा पार कर 303 सीटें प्राप्त की हैं। 545 सीटों वाली लोकसभा में स्पष्ट बहुमत के लिए किसी भी राजनीतिक दल को 272 सीटों की आवश्यकता होती है।

तीन बार बनी थी कांग्रेस सरकार
स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व में तीन बार लगातार कांग्रेस की स्पष्ट बहुमत वाली सरकार बनी थी। उसके बाद इंदिरा गांधी के नेतृत्व में 1967 और 1971 में लगातार दो बार इस तरह की सरकार बनी थी। कांग्रेस ने 1980 व 1984 में भी लगातार दो बार लोकसभा में स्पष्ट बहुमत हासिल किया था, लेकिन दोनों बार प्रधानमंत्री अलग-अलग थे।

आपातकाल के बाद हुए चुनाव में सत्ता से बेदखल हुईं इंदिरा गांधी ने 1980 में फिर से सरकार बनाई थी। हालांकि, वह अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सकीं और 1984 में प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए उनकी हत्या कर दी गई थी। इसके बाद उनके पुत्र राजीव गांधी ने सत्ता संभाली थी। इसके बाद हुए चुनाव में कांग्रेस को लोकसभा में 400 से ज्यादा सीटें मिली थीं। इसके बाद से किसी भी दल को लोकसभा में स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh