नई दिल्ली, प्रेट्र। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी ने इल्तिजा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि वह हिरासत में बंद अपनी मां से मिलना चाहती है और अधिकारियों को इसकी अनुमति देने का निर्देश दिया जाए। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही महबूबा मुफ्ती नजरबंद हैं।

इल्तिजा ने कहा है कि उसे अपनी मां के स्वास्थ्य की चिंता है। वह उनसे पिछले एक महीने से नहीं मिल सकी है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एसए बोबडे और जस्टिस एसए नजीर की पीठ गुरुवार को इल्तिजा की याचिका पर सुनवाई करेगी।

इल्तिजा के वकील ने कहा कि याचिका में वैसी ही राहत मांगी गई है, शीर्ष अदालत ने 28 अगस्त को जैसी माकपा नेता सीताराम येचुरी को अपनी पार्टी के बीमार नेता मुहम्मद यूसुफ तारिगामी से मिलने के लिए दी थी। येचुरी को तारिगामी से मिलने की सशर्त अनुमति मिली थी। अदालत ने कहा था कि वह तारिगामी से सिर्फ उनके स्वास्थ्य को लेकर ही बात करेंगे।

संचार माध्यमों पर पाबंदी को लेकर पत्रकार ने भी दायर की याचिका 

वहीं, कश्मीर टाइम्स की कार्यकारी संपादक अनुराधा भसीन ने शीर्ष अदालत में बुधवार को हलफनामा दायर कर कहा कि जम्मू-कश्मीर में संचार माध्यमों पर पाबंदी से पत्रकारों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें अपनी ड्यूटी निभाने में दिक्कत हो रही है और उन्हें दुश्मनी और आक्रामकता का शिकार होना पड़ रहा है।

उन्होंने कहा कि पत्रकारों की खबरों पर लगातार नजर रखी जा रही है, जिससे उनमें भय और चिंता व्याप्त है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ गुरुवार को भसीन की याचिका पर भी सुनवाई करेगी।

यह भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीरः महबूबा मुफ्ती जेल में पर ढूंढे नहीं मिल रहा उन्‍हें 'लाडला' भाई तस्सदुक मुफ्ती

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप