नई दिल्ली, प्रेट्र। मेघालय की कोयला खदान में एक महीने से ज्यादा समय से फंसे 15 मजदूरों में से एक का शव निकाल लिया गया है जबकि नौसेना ने दूसरे की तलाश कर ली है। यह जानकारी सोमवार को सुप्रीम कोर्ट को दी गई।

जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस एस. अब्दुल नजीर को जनहित याचिका दायर करने वाले के वकील ने बताया कि शवों को निकालने के लिए खदान से पानी निकाला जाना आवश्यक है। दायर याचिका में 13 दिसंबर से रैट-होल माइन में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए त्वरित कदम उठाने की मांग की गई थी।

केंद्र ने शीर्ष कोर्ट को बताया कि बचाव अभियान के दौरान 24 जनवरी को शव निकाला गया था। 26 जनवरी को नौसैनिकों ने करीब 280 फीट पर दूसरा शव पाया। अधिकारियों द्वारा की जा रही कार्रवाई का ब्योरा देते हुए दायर रिपोर्ट में केंद्र ने कहा है शव की तलाशी का काम प्रगति पर है।

याची आदित्य एन. प्रसाद के वकील आनंद ग्रोवर ने कहा कि खदान से पानी निकालने के लिए 14 से 15 उच्च शक्ति के पंप की जरूरत है। खदान से पानी निकाले बगैर अधिकारी शव तक नहीं पहुंच सकते हैं। बचाव अभियान में सेना के उपकरणों की जरूरत है।

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप