मेशिलांग (आइएएनएस)। मेघालय के पूर्व मुख्यमंत्री डोनवा डेथवेल्सन लपांग ने चार दशक बाद गुरुवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। 2019 में आगामी लोकसभा चुनाव और आगामी मिजोरम विधानसभा चुनाव से पहले लपांग के इस्तीफे से विपक्षी दल कांग्रेस को पूर्वोत्तर में बड़ा झटका लगा है।

लापांग ने कांग्रेस पार्टी पर अपने वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी करने का आरोप लगाया है। लापांग ने कांग्रेस पर वरिष्ठ नेताओं को धीरे -धीरे पार्टी से दरकिनार करने की नीति अपनाने का आरोप लगाया। लपांग ने राहुल गाँधी को भेजे इस्तीफे में लिखा कि वो न चाहते हुए भी भारी मन से इस्तीफा दे रहे हैं। डीडी लापांग मेघालय कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष के अलावा पांच बार मेघालय के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। डीडी लपांग ने पार्टी पर वरिष्ठ एवं बुजुर्ग लोगों को दरकिनार करने की नीति पर चलने का आरोप लगाया। अपने पत्र में उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि अब वरिष्ठ एवं बुजुर्ग लोगों की सेवा एवं योगदान पार्टी के लिए उपयोगी नहीं रह गई हैं।'

डीडी लपांग 1992 में पहली बार मेघालय के मुख्यमंत्री बने थे। इसके बाद 2003, 2007 (दो बार), 2009 में मेघलाय के मुख्यमंत्री बने। कांग्रेस के जनरल सेक्रेटरी और मेघालय के इंचार्ज लूजिंहो फेलरियो ने लपांग के इस्तीफे पर कहा कि उनकी पिछले तीन साल से लपांग के साथ कोई मुलाकात नहीं हुई है। लूजिंहो फेलरियो के मुताबिक डीडी लपांग पिछले दिनों राज्य में पार्टी को मजबूत करने के लिए बुलाई गई मीटिंग में शामिल नहीं हुए थे। मेघालय कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सेलेस्टीन लिंगदोह ने लपांग के इस्तीफे पर आश्चर्य जाहिर किया। उन्होंने कहा की इस मामले पर जल्दी सुलझाने के लिए हर कोशिश की जाएगी।

Posted By: Arti Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप