नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। जेएनयू, बीएचयू सहित करीब आधा दर्जन केंद्रीय विश्वविद्यालयों को भी अब जल्द ही नए कुलपति मिल जाएंगे। शिक्षा मंत्रालय ने जल्द ही इनकी नियुक्ति के संकेत दिए हैं। साथ ही बताया है कि जिन केंद्रीय विश्वविद्यालयों में कुलपति के पद खाली पड़े हैं, उन सभी में नई नियुक्ति के लिए चयन की प्रक्रिया लगभग पूरी कर ली गई है। इनमें से कई विश्वविद्यालयों के प्रस्ताव को राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भी भेज दिया गया है। जहां से मंजूरी मिलते ही नियुक्ति के आदेश जारी कर दिए जाएंगे।

दो केंद्रीय विश्वविद्यालयों में नियुक्‍त किए गए कुलपति

शिक्षा मंत्रालय ने हाल ही में दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रो योगेश सिंह और हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय सागर में नीलिमा गुप्‍ता को कुलपति के रूप में नियुक्त के आदेश जारी किए हैं। इससे पहले खाली पड़े 12 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में भी कुलपति की नियुक्ति को मंजूरी दी जा चुकी है। हालांकि अभी भी करीब आधा दर्जन केंद्रीय विश्वविद्यालयों में कुलपति के पद खाली हैं।

करीब आधा दर्जन केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अभी भी खाली हैं कुलपति के पद

फिलहाल देश के जिन प्रमुख केंद्रीय विश्वविद्यालयों में कुलपति की नियुक्ति होनी है, उनमें जेएनयू, बीएचयू के अलावा दिल्ली स्थित दो केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय, राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय, असम केंद्रीय विश्वविद्यालय और नगालैंड केंद्रीय विश्वविद्यालय शामिल हैं। विश्वविद्यालयों में कुलपति की नियुक्ति के लिए लगातार मांगें उठती रही हैं।

जेएनयू शिक्षक संघ ने भी शिक्षा मंत्रालय को पत्र लिखकर स्थायी कुलपति की नियुक्ति की मांग की थी। इसके साथ ही केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के खाली पदों को भरने की मुहिम छिड़ी हुई है।

खाली पड़े पदों को जल्‍द भरने के निर्देश

केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के लंबे समय से खाली पड़े पदों को भरने के लिए शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मिशन मोड में काम करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अगले हफ्ते तक रिक्त पदों से संबंधित विज्ञापन जारी करने के साथ ही जल्‍द सभी पदों को भरने को कहा है। मौजूदा समय में देश के 45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के करीब 6200 पद खाली हैं।

 

 

Edited By: Arun Kumar Singh