नई दिल्ली, प्रेट्र। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि सरकार और व्यवसायियों के बीच विश्वास कमजोर होने के साथ ही उनके खिलाफ एक शत्रुतापूर्ण धारणा बन रही है, जो आगे चलकर अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाएगी।

वह मीडिया कंपनी के पुरस्कार समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री ने जीएसटी परिषद को वर्ष के चेंजमेकर का पुरस्कार प्रदान किया। इसे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्राप्त किया।

उन्होंने कहा कि व्यवसायियों के खिलाफ कई नकारात्मक धारणाओं का निर्माण किया गया है। आलम यह है कि छोटा या बड़ा हर व्यवसायी सरकारी एजेंसियों से डरा हुआ है। यह स्थिति सिर्फ हमारे व्यवसायियों के लिए ही खतरनाक नहीं है बल्कि यह विदेश की सरकारों और वहां के व्यवसायियों के दिमाग में संदेह भी पैदा कर रही है।

उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति का निर्माण किया जाए कि कोई भी राजस्व अधिकारी ईमानदार व्यवसायी को परेशान नहीं करे। दुर्भाग्य से सरकार और व्यवसायियों के बीच विश्वास कम हुआ है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस