नई दिल्ली,जागरण डेस्क। देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का गुरुवार को 87वां जन्मदिन है। इस मौके पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें ट्वीटर के जरिए बधाई दी। पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि हमारे पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह जी को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं। उन्होंने आगे लिखा कि मैं उनके लंबे जीवन की प्रार्थना करता हूं।

     

10 वी पढ़ाई के बाद चले गए थे विदेश

डॉ मनमोहन सिंह का जन्म 26 सितंबर 1932 में अविभाजित भारत में हुआ था। वह दो बार देश के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। फिलहाल वह राजस्थान से राज्यसभा सदस्य हैं। पंजाब विश्वविद्यालय से 10वीं की परीक्षा पास करने के बाद मनमोहन सिंह आगे की पढ़ाई करने के लिए विदेश चले गए। वर्ष 1957 में उन्होंने ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से प्रथम श्रेणी के साथ अर्थशास्त्र में ग्रेजुएट हुए। इसके बाद उन्होंने वर्ष 1962 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के नूफील्ड कॉलेज से अर्थशास्त्र मं पीएचडी की।

पीएचडी के बाद शिक्षक के रूप में पढ़ाई

पीएचडी पूरी करने के बाद उन्हें जब डॉक्टर की उपाधि मिली तब मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्विघालय और दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में अर्थशास्त्र पढ़ाया। छात्र उन्हें शिक्षक के रूप में काफी पसंद करते थे। बता दें कि उन्हें जिनेवा में दक्षिण आयोग में महासचिव के रूप में भी नियुक्त किया गया था।

इतना ही नहीं वह 1971 में वाणिज्य मंत्रालय में आर्थिक सलाहकार और 1972 में वित्त मंत्रालय में मुख्य आर्थिक सलाहकार भी रह चुके हैं। इसके बाद वह योजना आयोग के उपाध्यक्ष, रिजर्व बैंक के गवर्नर,  प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष भी रहे।

इस तरह हुई राजनीतिक सफर की शुरुआत

1991 में मनमोहन सिंह को असम का राज्यसभा सदस्य  चुने गए। इसके बाद वर्ष 1995, 2001, 2007 और 2013 में फिर राज्यसभा सांसद रहे। जब 1998 से 2004 तक जब भाजपा सत्ता में थी, तब वही राज्यसभा में विपक्ष के नेता थे। 1999 में उन्होंने दक्षिणी दिल्ली से चुनाव लड़ा लेकिन उन्हे जीत हासिल नहीं की। वर्ष 2004 में कांग्रेस जैसे ही सत्ता में आई तो उन्हें प्रधानमंत्री बनाया गया। साल 2009 में फिर से कांग्रेस सत्ता में आई और एक बार फिर डॉ सिंह को ही प्रधानमंत्री बनाया गया। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस