कोलकाता, जेएनएन/एएनआइ। राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) के मुद्दे पर दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर लौटीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर कहा कि बंगाल में NRC लागू नहीं किया जाएगा।

चार दिवसीय दिल्ली दौरे के बाद शुक्रवार शाम राज्य सचिवालय नवान्न में मीडिया से मुखातिब हुईं ममता ने कहा 'कौन क्या कह रहा है, इसे लेकर चिंता करने की जरुरत नहीं है। मैं जब तक हूं, तब तक सभी सुरक्षित रहेंगे। मैं आपकी पहरेदार थी, मैं और रहूंगी। भारत के नागरिक भारत में ही रहेंगे। इसी तरह बंगाल के नागरिक भी बंगाल में रहेंगे। उन्होंने कहा कि नागरिकों की सूची से किसी का नाम काटा नहीं जाएगा, इसलिए किसी को डरने की जरूरत नहीं है। मैं केंद्र सरकार से इसी को लेकर बात करने गई थी।'

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों के नाम मतदाता सूची में शामिल नहीं हैं, वे अपने नाम मतदाता सूची में जरूर दर्ज करवा लें। इस समय डिजिटल राशन कार्ड के संशोधन का काम चल रहा है, लेकिन इसका NRC से कोई लेना-देना नहीं है।

NRC को लेकर राज्य में फैला दुष्प्रचार

ममता ने आगे कहा 'NRC लागू होने के दुष्प्रचार से भयभीत होकर दो लोगों की मौत की खबर है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। मृतकों के परिजनों को सरकार की तरफ से दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद की जाएगी।'

उन्होंने भाजपा पर NRC को लेकर दुष्प्रचार करने का आरोप लगाते हुए कहा 'भाजपा राजनीतिक स्वार्थ के लिए ऐसा कर रही है, लेकिन उसे किसी पर भी हाथ उठाने से पहले मुझपर हाथ उठाना होगा।' कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि असम में NRC का काम कांग्रेस के शासनकाल में ही शुरू हुआ था।

यह भी पढ़ें: अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती, शाह ने कहा- मोदी सरकार भारत को बनाएगी मैन्यूफैक्चरिंग का हब

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप