नई दिल्ली, एएनआइ। मेघालय में कांग्रेस के 17 में से 12 विधायक गुरुवार को तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। पूर्वोत्तर राज्य में सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। इस बीच, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि राहुल गांधी और आलाकमान के अन्य लोग इस पर विचार कर रहे हैं। समाचार एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए खड़गे ने कहा, 'यह एक साजिश की तरह हो रहा है। हमारी पार्टी के लोग, खासकर हमारी पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और आलाकमान के अन्य लोग इसे देख रहे हैं। वे इस बात पर निर्णय लेंगे।'

साथ ही उन्होंने कहा, 'लेकिन मैं यह कहना चाहूंगा कि हम संसद में भाजपा को हराने और उनकी विचारधारा के खिलाफ लड़ने की कोशिश करेंगे, चाहे हम किसी भी पार्टी या विचारधारा के हों। हम बैठक करके (भाजपा के खिलाफ) लड़ना जारी रखेंगे। जो लोग हमारे साथ हमेशा रहे हैं।'

वहीं, इसके पूर्व टीएमसी में शामिल हुए मेघालय के पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा ने आज कहा कि देश को एक अखिल भारतीय विपक्षी दल की जरूरत है और कांग्रेस इसे पूरा करने में विफल रही है। एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए संगमा ने कहा कि हमने अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस के साथ जुड़ने का एक दम सही निर्णय लिया है।

कांग्रेस पर हमलावर होते हुए संगमा ने कहा, 'मेघालय में हमारी एक टीम है जिसने दक्षता का प्रदर्शन किया और लोगों का विश्वास अर्जित किया है। इस विश्वास और सम्मान का सम्मान किया जाना चाहिए।' पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, '(कांग्रेसी होने के नाते) हम विपक्षी दल की जिम्मेदारी निभाने में विफल हो रहे हैं। हम अपने कर्तव्य और जिम्मेदारियों को निभाने में विफल हो रहे हैं। भारत की नब्ज यह है कि एक मजबूत वैकल्पिक विपक्ष और राजनीतिक दल की जरूरत है।'

टीएमसी में शामिल होने पर संगमा ने आगे कहा कि धारणा के आधार पर कांग्रेस पार्टी देश में एक मुख्य विपक्षी दल के रूप में अपने कर्तव्य के आह्वान का वास्तव में जवाब देने में विफल रही है। इसलिए राज्य, पूर्वोत्तर क्षेत्र और देश की देखभाल के लिए एक व्यवहार्य विकल्प खोजने की हमारी कवायद समाप्त हो गई।