मुंबई, एजेंसियां। शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे एवं अन्‍य पार्टी विधायकों की बगावत से मची सियासी खींचतान के बीच सांसद संजय राउत ने बृहस्पतिवार को एक बड़ा बयान दिया। उन्‍होंने कहा कि यदि असम में डेरा डाले हुए बागी विधायक 24 घंटे में मुंबई वापस लौट आते हैं तो शिवसेना महा विकास आघाड़ी सरकार छोड़ने के लिए तैयार है। ऐसे में सवाल उठने लगा है कि क्‍या वाकई उद्धव ठाकरे महा विकास अघाड़़ी का साथ छोड़ कर अलग राह अपना लेंगे....

कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) का कहना है कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Maharashtra Chief Minister Uddhav Thackeray) बिल्‍कुल 'पलटी' मार जाएंगे। वह शिवसेना के बागी विधायकों की मांग से सहमत होंगे कि शिवसेना सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी गठबंधन से बाहर निकल जाए। पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) शिवसेना सांसद संजय राउत (Uddhav Thackeray) के बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।

संजय राउत की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर पूर्व मुख्यमंत्री चव्हाण ने संवाददाताओं से कहा- क्या शिवसेना महाराष्ट्र में भाजपा से हाथ मिलाना चाहती है? शिवसेना की मंशा अभी स्पष्ट नहीं है। मैंने बुधवार शाम के सार्वजनिक संबोधन में उद्धव ठाकरे को इस तरह बोलते नहीं सुना। मुझे आश्चर्य होगा कि उद्धव ठाकरे 24 घंटे से भी कम समय में ऐसा यू-टर्न लेते हैं। मुझे नहीं लगता कि उद्धव ठाकरे ऐसा करेंगे... चव्‍हाण ने यह भी कहा कि यह भी स्पष्ट नहीं है कि संजय राउत का बयान शिवसेना के आधिकारिक रुख है या नहीं...

कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण (Prithviraj Chavan) ने कहा कि यह भी स्पष्ट नहीं है कि शिवसेना के किस धड़े को पार्टी का प्रामाणिक चेहरा माना जाना चाहिए। शिवसेना आंतरिक विरोध का सामना कर रही है जिसे संबोधित करने की जरूरत है, कांग्रेस को शिवसेना के भीतर चल रही अंतर्कलह पर कुछ नहीं कहना है। वहीं महाराष्‍ट्र राकांपा के अध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा कि राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने अभी तक राउत की टिप्पणियों पर चर्चा नहीं की है।

वहीं NCP नेता छगन भुजबल ने कहा कि अगर कुछ लोग बाहर जाना चाहते हैं, तो वे किसी तरह ऐसा करने का कारण खोज लेंगे। यहां तक ​​कि एक पार्टी द्वारा चलाई जाने वाली सरकार में भी आंतरिक कलह हो सकती है, यहां तो तीन अलग अलग पार्टियां हैं, मतभेद हो सकते हैं, ऐसा नहीं है कि सरकार को अस्थिर कर देना चाहिए... हम शरद पवार की नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी में हैं और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ हैं। अगर हम सत्ता में नहीं हैं, तो विपक्ष में रहते हुए लड़ना जानते हैं।

Edited By: Krishna Bihari Singh