देश के पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनावों का मतदान खत्म हो चुका है व परिणामों से ठीक पहले पांचों राज्यों के एग्जिट पोल ने सभी राजनीतिक दलों के बीच खलबली पैदा कर दी है। उत्तर प्रदेश में एग्जिट पोल भारतीय जनता पार्टी को विजय दिला रहे हैं तो वहीं पंजाब में आम आदमी पार्टी को सफलता मिलती हुई दिख रही है। हालांकि, एग्जिट पोल के परिणामों पर अक्सर सवाल खड़े किए जाते रहे हैं। कौन सी पार्टी को जीत मिलेगी यह 10 मार्च को स्पष्ट होगा। लेकिन उससे पहले एग्जिट पोल के दिखाए जा रहे आंकड़े और हर राज्य में किस पार्टी के जीत की संभावना है व विधानसभा चुनावों में कौन सी पार्टी की क्या रणनीति रही इन सभी बातों पर Koo Studio चुनावी तर्क वितर्क के नए एपिसोड में चर्चा किया गया।

चुनावी तर्क वितर्क के इस एपिसोड में वरिष्ठ पत्रकार Arvind Kumar Singh व Jagran New Media के एग्जक्यूटिव एडिटर Pratyush Ranjan ने एग्जिट पोल का विश्लेषण किया। चुनावों से पहले किसान आंदोलन को इस चुनाव के लिए एक गम्भीर मुद्दा माना जा रहा था। हालांकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इसका प्रभाव काफी दिखाई दे रहा था, लेकिन पूर्वी उत्तर प्रदेश में इस आदोलन का कोई विशिष्ट प्रभाव नहीं दिखाई देता। पंजाब चुनावों को किसान आंदोलन ने काफी प्रभावित किया है। जिसके बाद सभी प्रमुख राजनीतिक दलों ने किसानों को अपने चुनाव का केंद्र बनाया। इनके घोषणा पत्रों में भी किसानों के लिए काफी लुभावने वादे किए गए।

एग्जिट पोल के नतीजों को ध्यान में रखते हुए छोटे दलों की राजनीति पर भी विशेषज्ञों ने चर्चा किया। इसके बारे में बात करते हुए बताया कि छोटे दलों का अपना विशेष महत्व है जिसकी वजह से बड़े दलों ने कई छोटे दलों के साथ गठबंधन कर उन्हे अपने साथ लाने का प्रयास किया। छोटे दल एक निश्चित वर्ग का प्रतिनिधित्व करते हैं जिसकी वजह से बड़े दल उन वर्गों का समर्थन प्राप्त करने के लिए छोटे दलों से गठबंधन करते हैं। साथ ही पिछले चुनाव में इन पार्टियों के मिले वोट ने भी इनका कद बढ़ाया है।

पंजाब के एग्जिट पोल पर चर्चा करते हुए विशेषज्ञों ने कहा कि पंजाब में आम आदमी पार्टी ने सिर्फ कांग्रेस को नहीं भाजपा को भी नुकसान पहुंचाया है। अभी तक राजनीति में गुजरात मॉडल की चर्चा होती थी लेकिन इस चुनाव में आम आदमी पार्टी दिल्ली मॉडल के साथ चुनाव में उतरी है। हालांकि इस एग्जिट पोल में साइलेंट वोटर्स की भूमिका भी महत्वपूर्ण रहेगी। खासतौर पर दलित वोटर्स क्या वर्तमान मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को समर्थन देते हैं या नहीं यह महत्वपूर्ण होगा।

इसके अतिरिक्त विधानसभा चुनाव व एग्जिट पोल से जुड़े और भी कई प्रमुख मुद्दों पर चर्चा किया गया। जिसे आप यहां देख सकते हैं-

साथ ही Koo Studio के खास विधानसभा प्रोग्राम को देखने के लिए फॉलो करें @dainikjagran को Koo ऐप पर।

Edited By: Arun Kumar Singh