त्रिशूर, एजेंसी। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन का शनिवार को बड़ा बयान आया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज्य में 2019 के संसदीय चुनावों के दौरान जीती गई लोकसभा सीटों को बरकरार नहीं रख पाएगी। इसका कारण सीएम ने बताया कि ऐसा इसलिए होगा क्योंकि राहुल गांधी सहित सांसद राष्ट्रीय राजनीति में भाजपा का विरोध करने में 'विफल' रहे हैं।

सीएम ने साधा कांग्रेस पर निशाना

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस पार्टी पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही 'भारत जोड़ी यात्रा' के स्वागत के लिए लगाए गए बैनर में 20 भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों में वीडी सावरकर की तस्वीर शामिल किए जाने पर आपति जताई।

वामपंथी नेता अझीकोडन राघवन के 50वें शहादत दिवस के अवसर पर यहां भारी भीड़ को संबोधित करते हुए सीएम विजयन के कई सरे बयान सामने आए। उन्होंने कहा कि उनके राज्य के लोगों ने महसूस किया है कि केरल से गांधी को लोकसभा के लिए चुनना एक गलती थी।

सीएम ने कहा, 'जब राहुल गांधी ने यहां चुनाव लड़ा, तो हमारे लोगों ने सोचा कि वह प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं। लेकिन लोग अब जानते हैं कि यह एक गलती थी। कांग्रेस की वह चाल यहां फिर से काम नहीं करेगी। केरल के यूडीएफ सांसद भी नहीं हैं राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा का विरोध कर रहे हैं। वे लोकसभा में केरल से संबंधित किसी भी मुद्दे को उठाने में विफल रहे हैं।'

वयोवृद्ध वाम नेता ने लगाया आरोप

वयोवृद्ध वाम नेता ने आरोप लगाया कि आरएसएस के सांप्रदायिक एजेंडे को कांग्रेस द्वारा प्रोत्साहित किया जा रहा था। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि यहां तक ​​​​कि राष्ट्रीय पार्टी के राज्य प्रमुख ने भी कहा था कि अगर वह चाहते हैं, तो वह भाजपा में शामिल हो जाएंगे।

सीएम विजयन ने शुक्रवार शाम को सभा को बताया, 'भाजपा और आरएसएस अब सावरकर को भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद के साथ एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में शामिल करने की कोशिश कर रहे हैं। आप सभी ने कांग्रेस द्वारा उठाए गए पोस्टर में आजाद के साथ सावरकर का पोस्टर देखा होगा। इससे पता चलता है कि कांग्रेस ने आरएसएस का अभियान स्वीकार कर लिया है और इसलिए एर्नाकुलम में कांग्रेस ने सावरकर को स्वतंत्रता सेनानियों की सूची में शामिल करने का फैसला किया।'

सीएम विजयन ने आरएसएस और भाजपा पर भी किया हमला

सीएम विजयन ने आरएसएस और भाजपा पर भी हमला करते हुए कहा कि वे कभी भी स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा नहीं थे, लेकिन अंग्रेजों को माफी पत्र लिखते थे और स्वतंत्रता संग्राम को धोखा देते थे। उन्होंने कहा, 'आरएसएस ने हिंदुओं को सलाह दी कि अंग्रेजों से लड़ना जरूरी नहीं है। आरएसएस कभी भी स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा नहीं था और भले ही उन्हें किसी तरह गिरफ्तार किया गया हो, हम सावरकर का उदाहरण जानते हैं।' इसके साथ ही विजयन ने भाजपा पर सांप्रदायिकता फैलाने और समाज को बांटने का प्रयास करने का आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें-  केवल एक लाइन का 'सबक' देकर पूरी दुनिया में चर्चा का केंद्र बने पीएम मोदी, अब 'शांतिदूत' की भूमिका निभाने की मांग

यह भी पढ़ें- सचिन पायलट के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है राजस्‍थान का सीएम बनने की मंशा, लटकी रहेगी तलवार

Edited By: Ashisha Singh Rajput

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट