तिरुवनंतपुरम, एजेंसी। केरल कैबिनेट ने विधानसभा सत्र में एक विधेयक पेश करने का फैसला किया है। इस विधेयक के तहत राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति शिक्षा के क्षेत्र के विशेषज्ञ होंगे। इस विधेयक के पारित होने के साथ ही राज्यपाल को चांसलर पद से हटा दिया जाएगा। बता दें कि केरल विधानसभा का सत्र 5 दिसंबर से शुरू होगा।

सरकार ने विधेयक लाने की पहले ही बनाई थी योजना

इससे पहले ये खबर सामने आई थी कि केरल कैबिनेट आरिफ मोहम्मद खान को चांसलर के पद से हटाने के लिए विधेयक लाने जा रही है। पता चला था कि इस विधेयक के लाने के बाद चांसलर की जगह किसी विशेषज्ञ को लाया जाएगा। हालांकि, अब केरल सरकार ने विधानसभा सत्र में एक विधेयक पेश करने का फैसला किया है। जिसके बाद राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति शिक्षा के क्षेत्र के विशेषज्ञ होंगे।

राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से मांगा था इस्तीफा

बता दें कि इससे पहले राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने राज्य के 9 विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से इस्तीफा मांगा था। जिसके बाद नौ विश्वविद्यालयों के कुलपतियों ने इस्तीफा देने के राज्यपाल के आदेश को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय का रुख किया था।

राज्यपाल और सरकार के बीच चल रहा विवाद

केरल में राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और राज्य सरकार के बीच पिछले कुछ समय से विवाद चल रहा है। विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की नियुक्ति को लेकर राज्यपाल और सरकार के बीच विवाद चल रहा है। केरल सरकार राज्य के राज्यपाल पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एजेंडे को लागू करने का आरोप लगा रही है। सीएम विजयन ने राज्यपाल आरिफ पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह अपनी शक्तियों का दुरुपयोग कर रहे हैं और ये अलोकतांत्रिक है।

केरल के 7 विश्वविद्यालयों के कुलपति ने किया हाई कोर्ट का रुख,राज्यपाल के कारण बताओ नोटिस को रद करने की मांग की

केरल हाईकोर्ट का फैसला, विधानसभा से पारित विधेयकों पर फैसला लेने के लिए समय सीमा तय करने से इन्कार

Edited By: Mohd Faisal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट