नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। कपिल सिब्बल ने कांग्रेस को अलविदा कह दिया है। सिब्बल ने बुधवार को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल किया है। सिब्बल ने कहा कि वह 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके हैं। नामांकन भरते वक्त सिब्बल ने कहा, 'मैं समझता हूं कि जब एक निर्दलीय की आवाज उठेगी तो लोगों को ऐसा लगेगा कि वे किसी पार्टी से नहीं जुड़े हुए हैं। हम विपक्ष में रहकर गठबंधन बनाना चाहते हैं ताकि हम मोदी सरकार का विरोध करें।'

सिब्बल ने लखनऊ में सपा प्रमुख अखिलेश यादव और पार्टी के अन्य नेताओं की मौजूदगी में उत्तर प्रदेश से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। सिब्बल 4 जुलाई को राज्यसभा से सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

सिब्बल के उच्च सदन के लिए चुने जाने की संभावना है क्योंकि उत्तर प्रदेश विधानसभा में सपा के 111 विधायक हैं।

सिब्बल ने एक साक्षात्कार के दौरान 'घर की कांग्रेस' टिप्पणी की थी जिसमें उन्होंने यह भी कहा था कि वह पांच राज्यों के चुनावों के परिणामों से हैरान नहीं थे और पार्टी को नेतृत्व के कायाकल्प के लिए एक योजना तैयार करनी चाहिए थी।

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि 2024 में ऐसा माहौल बने कि मोदी सरकार की जो खामियां हैं, उसे जनता तक पहुंचाया जा सकें। मैं इसका प्रयास करूंगा मैंने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा के लिए नामांकन भरा है। मैं अखिलेश यादव का आभारी हूं कि उन्होंने मेरा समर्थन किया। मैं आजम ख़ान के प्रति भी आभार प्रकट करता हूं।

Edited By: Manish Negi