जयपुर, एजेंसी। मध्य प्रदेश में राजनीतिक हालात पर टिप्पणी करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने यहां रविवार को कहा कि कर्नाटक में कैबिनेट गठन के बाद 'नया मिशन' शुरू किया जाएगा।उल्लेखनीय है कि कर्नाटक में कांग्रेस-जदएस की गठबंधन की सरकार विश्वास मत हार चुकी है और वहां भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा नए मुख्यमंत्री बने है जो सोमवार को बहुमत साबित करेंगे।

विजयवर्गीय ने यहां पत्रकारों से चर्चा में कहा कि यह हमारी इच्छा नहीं है कि मप्र में कांग्रेस सरकार गिरे, लेकिन खुद कांग्रेस विधायकों में ही इस बारे में अनिश्चतता है। उनसे कांग्रेस शासित मप्र के बारे में सवाल किया गया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायकों का उनके नेतृत्व में कोई विश्वास नहीं है।

विधायक गुटबाजी से परेशान हैं इसलिए वे महसूस करते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेतृत्व ही बहुत अच्छा है। विजयवर्गीय ने यह भी कहा कि कांग्रेस और उसकी सरकारें उसके खुद के कामों के कारण गिर रही है। यहां भाजपा कार्यालय में विजयवर्गीय ने पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की और प्रधानमंत्री की मन की बात कार्यक्रम भी सुना।

गौरतलब है कर्नाटक में सरकार गिरने के तुरंत बाद मप्र के पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कहा था मध्य प्रदेश सरकार के भीतर कलह है। अगर सरकार गिरती है तो इसके लिए खुद कांग्रेसी नेता जिम्मेदार होंगे।इसके बाद कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने शिवराज के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा अगर मध्य प्रदेश सरकार को कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार न समझे।

इसके अगले दिन विधानसभा में सीएम कमलनाथ और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बीच तनातनी देखने को मिली। इस दौरान भार्गव ने कहा कि अगर हमारे नंबर एक या नंबर दो का आदेश हुआ तो 24 घंटे के भीतर आपकी सरकार गिर जाएगी। इसपर पलटवार करते हुए कमलनाथ ने कहा कि आपके ऊपर वाले नंबर एक और दो समझदार हैं, इसलिए आदेश नहीं दे रहे। आप चाहें तो अविश्वास प्रस्ताव ले आएं।'

इसी दिन विधानसभा में आपराधिक कानून (संशोधन) बिल पर मतदान के दौरान दो भाजपा विधायकों, नारायण त्रिपाठी और शरद कौल ने कमलनाथ सरकार के पक्ष में मतदान किए। इसके बाद कांग्रेस ने इसे लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। सीएम कमलनाथ ने भाजपा पर चुटकी लेते हए कहा ' भाजपा रोज कहती है कि हमारी सरकार कभी भी गिर सकती है। आज सदन में आपराधिक कानून (संशोधन) बिल पर वोटिंग के दौरान दो भाजपा नेताओं ने हमारे पक्ष में वोट दिया। इसके बाद भाजपा बैकफुट पर आ गई थी। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Tanisk

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप