कोलकाता, एएनआइ। Narada Sting Operation Case: नारद स्टिंग ऑपरेशन केस में आईपीएस ऑफिसर एसएमएच मिर्जा (SMH Mirza) की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी गई है। केंद्रीय जांच अन्वेषण ब्यूरो (CBI)ने 30 अक्टूबर तक मिर्जा की न्यायिक हिरासत बढ़ाई है। लगभग ढाई वर्षों की लंबी जांच के बाद सीबीआइ ने नारद स्टिंग ऑपरेशन में पहली गिरफ्तारी आइपीएस अधिकारी एसएमएस मिर्जी की थी। पिछलें दिनों उन्हें गिरफ्तार कर 30 दिनों की हिरासत में भेजा गया था।

क्या है नारद स्टिंग कांड

दरअसल, नारद स्टिंग पोर्टल ने साल 2014 में तत्कालीन सीईओ व संपादक मैथ्यू सैमुअल ने कोलकाता में तृणमूल के एक दर्जन से अधिक मंत्री, सांसद व विधायकों और नेताओं के साथ ब‌र्द्धमान जिले के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक आइपीएस मिर्जा का भी स्टिंग ऑपरेशन किया था। इन लोगों को एक काल्पनिक कंपनी की मदद के बदले में मोटी रकम दी गई थी, जिसका वीडियो तैयार किया गया था। 2016 के बंगाल विधानसभा चुनाव के मतदान से ठीक पहले स्टिंग ऑपरेशन का खुलासा हुआ तो बंगाल ही नहीं, पूरे देश की राजनीति में भूचाल आ गया था।

कई मंत्रियों के खिलाफ दर्ज हुआ था केस

नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में एक कारोबारी को लाभ पहुंचान के लिए तृर्णमूल के कई नेताओं और आइपीएस अधिकारियों को पैसा लेते हुए दिखाया गया है। इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर भी अपलोड किया गया था। इसके बाद सीबीआइ ने पुरे मामले की जांच के आधार पर कथित तौर पर कई मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला दर्ज कियाा था।  इस पूरे मामले में कम से कम 13 नेताओं का नाम शामिल हैं। ऐसे में सीबीआइ लगातार इन नेताओं से पूछताछ करने में जुटी हुई है। 

यह भी पढ़ें: Air India का टैक्सीबोट इस्तेमाल करना क्यों है चर्चा में, क्या होता है टैक्सीबोट, ऐसा करने वाली पहली एयरलाइन कैसे बनी एयर इंडिया

यह भी पढ़ें: NGT ने बढ़ते प्रदूषण पर जाहिर की चिंता, रेलवे साइडिंग पर लोडिंग और अनलोडिंग को लेकर दिया ये निर्देश

 

Posted By: Pooja Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप