जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का संघ शासित प्रदेश के रूप में 31 अक्टूबर को गठन होगा। गृह मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर पुर्नगठन अधिनियम 2019 के संबंध में शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर कहा है कि राज्य का विभाजन 31 अक्टूबर से अमल में आएगा। यह तिथि इसलिए खास है क्योंकि यह अखंड भारत का सपना देखने वाले लौहपुरुष वल्लभ भाई पटेल का जन्मदिन है। इसे राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

31 अक्टूबर को होगी गठन की अधिसूचना जारी

बतौर गृह मंत्री पटेल ने देश भर की रियासतों को जोड़ने का काम किया था, लेकिन जम्मू-कश्मीर ही मात्र एक ऐसा राज्य बचा था जो शामिल होते हुए भी स्वायत्त रह गया था। जम्मू-कश्मीर का मसला तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू देख रहे थे।

संसद में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पर चर्चा के दौरान पटेल और नेहरू की भूमिका को लेकर गरमागर्म बहस हुई थी। सत्तापक्ष की ओर से यह आरोप लगाया था कि अगर उस वक्त पूरा जिम्मा पटेल का हाथों में होता तो कश्मीर का विवाद ही न होता। अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के गठन को भी पटेल से जोड़ दिया गया है।

गृह मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर पुर्नगठन अधिनियम की धारा 2 के खंड के तहत अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए यह अधिसूचना जारी की है। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप