नई दिल्‍ली, एएनआइ। Jamaat ul Mujahideen Bangladesh केंद्र सरकार ने जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश या जमात-उल-मुजाहिदीन भारत या जमात-उल-मुजाहिदीन हिंदुस्तान और उससे जुड़े सभी संगठनों को को गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के संदर्भ में 23 मई को एक आतंकवादी संगठन के रूप में अधिसूचित किया है। संसद में यह जानकारी गृह राज्‍य मंत्री जीके रेड्डी ने दी है।

उन्‍होंने बताया कि जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश के बारे में इनपुट है कि वह समुदाय के लोगों के कट्टरपंथीकरण और भर्ती के लिए बर्दवान और मुर्शिदाबाद में कुछ मदरसों का उपयोग कर रहा है। प्रासंगिक जानकारी नियमित रूप से राज्य सरकार और एजेंसियों के साथ साझा की जाती है जो उचित कार्रवाई करने की सलाह देते हैं।  

इससे पहले 23 मई को गृह मंत्रालय ने अधिसूचना जारी करते हुए कहा था कि कि जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देता है और वह तोड़फोड़ वाली गतिविधियों में संलिप्त है। वह भारत में युवाओं को भर्ती कर उनमें कट्टरता पैदा करता है और उनका भारत की एकता और अखंडता के खिलाफ इस्तेमाल करता है।

पुलिस को पश्चिम बंगाल के ब‌र्द्धमान और बिहार के बोधगया में हुए बम विस्फोटों में जेएमबी का हाथ होने के सबूत मिले हैं। इसके अतिरिक्त बंगाल के सीमावर्ती इलाकों में भी जेएमबी की गतिविधियों के प्रमाण मिले हैं।

कोलकाता पुलिस ने पूर्व बर्धमान से जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) इंडिया के संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया है। वह बौद्ध गया विस्फोट कांड के बाद से फरार था। सूत्रों के अनुसार मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ ने गत सोमवार रात पूर्व बर्धमान के एक बस स्टैंड की घेराबंदी कर अब्दुल रहीम नामक युवक को गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप