नई दिल्ली [स्पेशल डेस्क]। मेघालय में 27 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए जोरशोर से प्रचार जारी है। भाजपा पूर्वोत्तर इलाके के इस महत्वपूर्ण राज्य में केसरिया झंडा फहराने की तैयारी में है। मेघालय, भाजपा के लिए इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि पिछले 15 साल से कांग्रेस का रथ निर्बाध दौड़ता रहा है। भाजपा जहां एक तरफ सोशल मीडिया के माध्यम से मतदाताओं तक पहुंचने की कोशिश कर रही है, वहीं जमीन पर एक एक मतदाताओं को कांग्रेस के कुशासन के बारे में बताया जा रहा है।

'कांग्रेस के कुशासन को करेंगे खत्म'

मेघालय के सीएम मुकुल संगमा पर निशाना साधते हुए भाजपा प्रभारी नलिन कोहली ने कहा कि उन्होंने राज्य में कांग्रेस सरकार के कुशासन को खत्म करने की शपथ ली है। डोर टू डोर अभियान के दौरान मतदाताओं से मिलते हुए सवाल उठाया कि आखिर आप लोग खुद बताएं कि कांग्रेस ने 15 साल के शासन में राज्य का कितना विकास किया है। नलिन कोहली ने कहा कि सीएम मुकुल संगमा अमपति और सोंसैक दोनों विधानसभाओं में हार का सामना करेंगे। आज मेघालय को दिल्ली के साथ मिलकर काम करने का मौका मिल रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा का मकसद राज्य को विकास के रास्ते पर ले जाना है।

सोशल मीडिया पर भाजपा-कांग्रेस में जंग

सोशल मीडिया पर अब प्रचार उफान पर है। सोशल मीडिया के महत्व को समझते हुए भाजपा इस माध्यम के जरिए मतदाताओं और नेताओं के बीच की दूरी को पाटने का काम कर रही है। जनवरी के पहले हफ्ते में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि हर एक जिले में पार्टी का दफ्तर होगा जिसमें अलग से सोशल मीडिया रूम भी होगा। पार्टी ने इस संबंध में अपने कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने के लिए एक महीने पहले ही अभियान शुरू कर दिया था। जनवरी के अंतिम हफ्ते में सोशल मीडिया कॉन्क्लेव का आयोजन किया जिसमें पार्टी कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया, आईटी एक्सपर्ट्स ने संबोधित किया था।

कांग्रेस अध्यक्ष पर व्यंग्यों के माध्यम से भाजपा ने जिस अंदाज में हमले किए वो देखते ही देखते वायरल हो गया। @OfficeOfRG मसलन बूट की सरकार ने मेघालय के राज्य खजाने को भ्रष्टाचार और काले धन के जरिए खोखला कर दिया है। हमारे दुख और दर्द को दूर भगाने की जगह आप अक्षम मेघालय सरकार की रिपोर्ट कार्ड को पेश किया है। आप की ये बेरुखी हम लोगों का मजाक उड़ाती है।

भाजपा ने हमलावर अंदाज में कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष तुरा जाने के लिए हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल नहीं करते हैं।लेकिन रॉक कंसर्ट टैक्टिस के जरिए मेघालय के जमीनी मुद्दों से आम मतदाताओं का ध्यान भटका रहे हैं। कांग्रेस के राजकुमार सिर्फ दिखाने के लिए तुरा दौरे को कैंसिल करते हैं लेकिन वो इस बात पर आश्चर्य करते हैं कि मेघालय के लोग कैसे यात्रा करते हैं।

374 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर

60 सदस्यीय विधानसभा के लिए कुल 374 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर है। कांग्रेस जहां सभी 60 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, वहीं वहीं एनपीपी 52, भाजपा 47, पीपल डेमोक्रेटिक फ्रंट 26, नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी 21, यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी 13, हिल स्टेट पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी 13 और दूसरी पार्टियां चुनावी मैदान में हैं। इस चुनाव में 85 निर्दलीय और 33 महिला प्रत्याशी भी अपनी किस्मत आजमां रही हैं। ये चुनाव न केवल कांग्रेस के लिए लिटमस टेस्ट की तरह है बल्कि भाजपा किसी भी सूरत में इस पहाड़ी राज्य में केसरिया झंडा फहराने की कोशिश में है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि पार्टी चुनाव पूर्व या बाद में किसी दल से गठबंधन नहीं करेगी। भाजपा अपने बलबूते पर चुनावी मैदान में है। रूडी की बात इसलिए भी लोगों का ध्यान आकर्षित कर रही है क्योंकि एनपीपी नेता भी साफ कर चुके हैं किसी दल से वो भी गठबंधन नहीं करेंगे।

By Lalit Rai